Skip to main content

About





Hi, I am Akhilesh Sharma. I belong to Mau, U.P. India. Blogging is not only my hobby but also my emotions. Yes I love blogging.
First I started blogging in 2009 as www.akhileshspeaks.blogspot.com but those days I was not serious about it. Then I started this blog in Feb 2018.
Often I feel myself unfit in the society because of my principles and thoughts. As blogging is my passion, I write it to satisfy my feelings but this is one side of the coin. To serve and to share my emotions, my information, my ideas is also the aim of my blog.
I would also like to make it clear that I would try my best to satisfy my readers.
Thanks

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

Uric Acid: Lakshan Aur Niyantran Ke Upay Hindi Me

यूरिक एसिड और गाउट /अर्थराइटिस 

कई बार ऐसा होता है कि कुछ लोगों को चलने फिरने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है और उनके शरीर के जोड़ जोड़ में दर्द होता है। गांठे सूज जाती हैं और वह करीब करीब बेड पर हो जाता है। यह बीमारी काफी तकलीफदायक है क्योंकि यह सीधे मनुष्य के खड़े होने , चलने फिरने पर प्रभाव डालता है और इस वजह से वह लाचार और काफी हद तक दूसरों पर निर्भर हो जाता है। 
आइए जानते हैं ऐसा किन वजहों से होता है और कैसे इसका निदान करते हैं : मनुष्य के शरीर में विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात यूरिक एसिड का निर्माण होता है। जब किसी कारणवश शरीर में इसकी मात्रा बढ़ जाती है तब यह शरीर पर अपना नुकसान दिखाना शुरू करती है।  यूरिक एसिड या गठिआ क्या है What is Uric Acid
यूरिक एसिड कार्बन,हाइड्रोजन,नाइट्रोंजन तथा ऑक्सीजन परमाणुओं का एक हेट्रोसिक्लिक योगिक होता है जो शरीर के अंदर विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात् प्यूरिन के रूप में उत्पन्न होता है।इसी प्यूरिन के टूटने से यूरिक एसिड का निर्माण होता है।  जब हमारे शरीर में इसकी मात्रा सामान्य से अधिक हो जाती है तो इसे Hype

Chor Bazar Kise Kahte Hain, Duniya Ke Das Prasiddh Chor Bazar

बाजार तो आप खूब घूमे होंगे। चाहे वह गांव का हाट हो, शहर का मीना बाजार हो, मॉल हो या सुपर बाजार हो किन्तु जो अनुभव और मज़ा आपको किसी चोर बाजार में खरीदारी करते हुए आएगा उसकी तुलना आप किसी से नहीं कर सकते। भरी भीड़ में अपने पसंद की चीज़ को छांटना, भाव जांचना , मोल भाव करना एक अलग ही संतुष्टि प्रदान करता है। भारत के कई शहरों में चोर बाजार मिल जायेंगे। इतना ही नहीं विश्व के कई अन्य देशों में भी उनके अपने चोर बाजार हैं। हर  चोर बाज़ार की अपनी खासियत होती है। एक बात तो तय है कि किसी भी चोर बाजार में सेकंड हैण्ड और पुरानी वस्तुओं की बहुतायत होती है। किन्तु इसके साथ साथ यहाँ चोरी के माल भी खूब ख़रीदे और बेचे जाते हैं।  

चोर बाजार किसे कहते हैं
कई शहरों में पुरानी और सेकंड हैण्ड वस्तुओं की खरीद बिक्री के लिए एक जगह निश्चित रहती है। यहाँ पर इन वस्तुओं के अलावे डिफेक्टिव प्रोडक्ट्स, सरप्लस प्रोडक्ट और कबाड़ भी बेचे जाते हैं। इन्ही वस्तुओं की आड़ में चोरी के सामान भी यहाँ बेचे जाते हैं। शहर के जिस बाज़ार में इस तरह की खरीद बिक्री की जाती है उसे प्रायः चोर बाजार के नाम से जाना जाता है। 

चोर बाजार नाम कैसे पड़…