Skip to main content

ज़हर: एक मोटिवेशनल स्टोरी



निर्मला ये लो सामान, सुरेश ने घर में घुसते ही कहा। निर्मला दौड़ती हुई आयी और सामान लेते हुए कहा तुमसे बोली थी सब्ज़ी भी लाने को नहीं लिए क्या ? अरे बाबा पहले चैन से बैठने तो दो, सुरेश खाट पर बैठते हुए कहा। सब्ज़ी भी लाया हूँ ये लो। निर्मला सामान लेकर अंदर गयी और झट से सुरेश के लिए पानी ले आयी। आज बहुत थक गया हूँ , सुरेश खाट पर लेटते हुए कहा। बच्चे कहाँ हैं ? दोनों अभी खेल कर नहीं लौटे हैं। निर्मला ने चाय देते हुए कहा। निर्मला बैठकर सुरेश के पांव दबाने लगी। सुरेश टीवी देखने लगा।
सुरेश मजदूरी का काम करता था। शहर में काम की कमी नहीं थी। वह मेहनती भी था। अच्छा कमाता था और अच्छे से अपने परिवार का गुजारा करता था। घर में दो बच्चे थे। दोनों पढ़ते थे। वह अपने परिवार को खुश रखने में कोई कमी नहीं रखता था। जो भी कमाता था दिल खोल कर खर्च करता था।
कुल मिला कर उनका परिवार एकदम सुखी था।



एकदिन सुरेश मजदूरी करके वापस आ रहा था। उसी समय रस्ते में एक जनसभा हो रही थी। एक नेता जी बड़े ही जोश से भाषण दे रहे थे। वे लोगों का आह्वान कर रहे थे हम अन्याय बर्दाश्त नहीं करेंगे। ईंट से ईंट बजा कर रख देंगे। सुरेश को उनका भाषण बहुत अच्छा लग रहा था। नेता जी की बातों में उसे सचाई नज़र आ रही थी। उसे लगा देश को उसकी जरुरत है।
सुरेश घर आया। उसके दिमाग में अभी भी नेता जी की बातें चल रही थीं। तभी उसका बेटा दौड़ता हुआ उसके पास आया। पापा पापा देखो न कबीर मेरे साथ नहीं खेल रहा है। जाने दो तुम उसके साथ मत खेला करो । जाओ दूसरे बच्चों के साथ खेलो।
सुरेश अब अपना ज्यादा समय मोबाइल पर देने लगा। मोबाइल पर व्हाट्सअप, फेसबुक से उसे अपने देश, धर्म और कई अन्य चीज़ों के बारे में काफी जानकारियां मिलने लगी थीं।
अब सुरेश अकसर नेता जी की सभाओं में जाने लगा। कई बार तो काम छोड़ कर भी चला जाता था। उसे लगता देश,कौम और समाज को उसकी जरुरत है। नेताजी के आह्वान पर बंद, धरना प्रदर्शन आदि में भी वह बढ़ चढ़ के हिस्सा लेने लगा। उसके दोस्तों ने कई बार उसे समझने की कोशिश की लेकिन उसे लगता था उसके दोस्त भटके हुए है उन्हें देश और कौम की सेवा से कोई मतलब नहीं है। कभी कभीं तों उसे  लगता था वे सब कौम के प्रति गद्दार और देशद्रोही हैं। उन्हें देश की कोई चिंता ही नहीं है स्वार्थी कहीं के। धीरे धीरे वह उन सबों से दूरियां बढ़ाने लगा। उनलोगों से उसे नफरत होती थी। वह उन सबों से बात भी करना छोड़ दिया था।


एकदिन वह नेता जी के आह्वान पर भारतबंद में हिस्सा लेने गया था। शहर की सारी गाड़ियां, ट्रेनें, दुकाने आदि बंद थीं। वह सड़क पर चहलकदमी कर रहा था।  तभी उसे दूसरी और से एक ऑटो रिक्शा आता दिखाई दिया। उसे बहुत क्रोध आया। इस स्साले को मालुम नहीं कि आज भारत बंद है रुक अभी बताता हूँ। रुक रुक, कहते हुए वह ऑटो के सामने आ गया। ऑटो वाले ने गाड़ी रोक दी। अरे सलमान तू ?  तुम लोग गद्दार के गद्दार ही रहोगे, कहते हुए उसने ऑटो  का टायर पंचर कर दिया। अरे अरे ये क्या कर दिया तूने। सलमान ऑटो से निकलते हुए बोला, इमरजेंसी केस है अंदर भाभी पैदाइश के दर्द से छटपटा रही है, उनका अस्पताल पंहुचना जरुरी है। सुरेश ऑटो के अंदर झाँका, उसका दिमाग हिल गया अंदर उसकी पत्नी निर्मला प्रसव वेदना से छटपटा रही थी, उसकी साडी खून से लथपथ हो रही थी। सुरेश को तो मानो काटो तो खून नहीं वाली स्थिति हो गयी थी। वह जल्दी जल्दी ऑटो को खींच कर ले जाने लगा। टायर पंचर होने की वजह से ऑटो को खींचना बहुत मुश्किल हो रहा था। किसी तरह वह और सलमान मिलकर निर्मला को एक अस्पताल ले गए। सुरेश भागकर डॉक्टर के कमरे में गया। निर्मला को भर्ती तो ले लिए थे सब किन्तु उसे तुरत ऑपरेशन की आवश्यकता थी। बंदी की वजह से डॉक्टर  आज अस्पताल नहीं आ पाए थे। सुरेश परेशान और हताश होकर गलियारे में चहलकदमी कर रहा था।
उसे कुछ समझ ही नहीं आ रहा था क्या करें। जी चाहता था कि अस्पताल में आग लगा दे उसके कर्मचारियों को पीट डालूं ,कोई कुछ कर क्यों नहीं रहा है। तभी उसकी नज़र एक लेडी डॉक्टर पर पड़ी जो किसी तरह बचते बचाते अस्पताल में प्रवेश की। वह सीधे जाकर उसके पैरों पर गिर गया। डॉक्टर साहिब मेरी पत्नी को बचा लीजिए। डॉक्टर ने ऑपरेशन थिएटर में प्रवेश किया। काफी देर बाद वह बाहर निकली। तुम ही इसके पति हो। जी डॉक्टर साहिब। देखो हालत काफी नाज़ुक है बच्चे  का नुकसान हो चूका है। तीन यूनिट ब्लड चाहिए। सुरेश ने नेता जी को फोन किया। अपने राजनितिक साथियों को फोन किया। सबने किसी न किसी बहाने से कन्नी काट ली। सुरेश एकदम निराश हो गया था। तभी सलमान ने कहा तू चिंता मत कर एक यूनिट तू दे दे , एक मै दे दे रहा हूँ बचा एक तो उसके लिए अपने महल्ले का वह धरमु तैयार है उससे मैंने फोन पर बात कर ली है आता ही होगा। सुरेश ग्लानि से गड़ा जा रहा था।

Hospital, Surgery, Medical, Health

करीब एक सप्ताह अस्पताल में रहने के बाद निर्मला की छुट्टी हुई। सुरेश निर्मला को लेकर घर आ रहा था। रास्ते में एक जगह नेता जी का की सभा चल रही थी। काफी भीड़ थी। सलमान साइड से अपना ऑटो निकाल रहा था। नेता जी भाषण दे रहे थे, सुरेश ने अपने हाथों से अपने कानों को ढक लिया। वह अब और जहर नहीं पीना चाहता था। उसे समझ आ रहा था कि समाज लोगों से बना है और समाज से देश, अतः लोगों में नफरत फैलाकर देश सेवा नहीं की जा सकती।

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

पारस पत्थर : ए मोटिवेशनल स्टोरी

पारस पत्थर : ए मोटिवेशनल स्टोरी 

सोहन आज एक नयी एलईडी टीवी खरीद कर लाया था। टीवी को इनस्टॉल करने वाले मेकैनिक भी साथ आये थे। मैकेनिक कमरे में टीवी को इनस्टॉल कर रहे थे। तभी सोहन की बीबी उनके लिए चाय बना कर ले आयी। दोनों मैकेनिकों ने जल्दी ही अपना काम ख़तम कर दिया। सोहन नयी टीवी के साथ नया टाटा स्काई का कनेक्शन भी लिया था। चाय पीते पीते उन्होंने टीवी को चालू भी कर दिया था। उसी समय सोहन का पडोसी रामलाल भी आ गया। नयी टीवी लिए हो क्या ? उसने घर में घुसते ही पूछा।  हाँ लिया हूँ।  सोहन ने जवाब दिया। कित्ते की पड़ी ? यही कोई चौदह हज़ार की। हूँ बड़ी महँगी है। राम लाल ने मुंह बनाते हुए कहा। सोहन ने कहा मंहंगी तो है लेकिन क्या करें कौन सारा पैसा लेकर ऊपर जाना है। सोहन ने राम लाल को भी चाय पिलायी। चाय पीने के बाद राम लाल चला गया। सोहन अपने परिवार के साथ बैठ कर टीवी का आनंद लेने लगा।

इंसान अपने दुःख से उतना दुखी नहीं होता जितना दूसरे के सुख को देख कर

सोहन लकड़ी का काम किया करता था। खूब मेहनती था। अच्छा कारीगर था अतः उसके पास काम भी खूब आते थे।रात में अकसर दस बारह बजे तक वह काम किया करता था। इसी मेहनत का …

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…