Skip to main content

Thyroid Kya Hai, Thyroid ke Lakshan Aur Upchar


थायरॉइड आज की तारीख में एक आम समस्या बनती जा रही है। लगभग हर परिवार में कोई न कोई इस समस्या से पीड़ित मिल जायेगा। यह सामान्य से लेकर कई गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। हमारा खानपान, बिजी शिड्यूल, तनाव और हमारी जीवन शैली इस समस्या की वजह हो सकते है। 

थायरॉइड क्या होता है ?

थायरॉइड वास्तव में किसी बीमारी का नाम नहीं है। यह मानव शरीर के अंदर एक एंडोक्राइन ग्लैंड का नाम है। यह ग्लैंड गले के भीतर स्वर यंत्र के दोनों तरफ तितली के आकार में होती है। यह श्वास नली के ऊपर स्थित होती है। थाइरॉइड ग्रंथि का मुख्य कार्य शरीर के मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करना होता है। इसके लिए यह थाइरॉक्सिन नामक हॉर्मोन बनाती है। यह हार्मोन शरीर के सभी मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करता है जिसमे ऊर्जा उत्पादन में मदद करना, प्रोटीन उत्पादन आदि सम्मिलित है। 

 




थायरॉइड रोग क्या है ?

यहाँ तक तो सब ठीक है किन्तु स्थिति तब बुरी हो जाती है जब यह ग्रंथि सही तरह से अपना काम नहीं कर पाती है। कभी कभी यह थाइरॉक्सिन हॉर्मोन का उत्सर्जन अधिक मात्रा में करने लगती है तो कभी जरुरत से काफी कम। दोनों स्थितियां हमारे शरीर को प्रभावित करती हैं और हमारे शरीर में कई तरह के लक्षण दिखने लगते हैं। आम बोलचाल की भाषा में इसे ही थाइरॉइड होना कहते हैं। हारमोन के उत्पादन के आधार पर यह दो प्रकार का होता है

थायरॉइड कितने प्रकार का होता है ?

थायरॉइड दो प्रकार का होता है

Hyperthyroidism : यह स्थिति तब आती है जब थाइरोइड ग्लैंड जरुरत से ज्यादा हारमोन उत्पन्न करने लगता है।


Hypothyroidism : इस तरह की स्थिति में थाइरॉक्सिन का उत्पादन आवश्यकता से कम होता है।


दोनों ही स्थितियां मरीज के स्वस्थ्य पर प्रभाव डालती है। रोगी कमजोरी, थकान से लेकर कई अन्य परेशानियों को झेलने लगता है। कभी कभी तो स्थिति गंभीर हो जाती है और यह घातक साबित होता है।





Hyperthyroidism के लक्षण

ज्यादातर केस में मरीज की थाइरोइड ग्रंथि बड़ी हो जाती है और गले में एक बड़ी गांठ या लम्प की तरह दिखाई पड़ता है। इसे सामान्य बोलचाल में घेघा कहते हैं। घेघा के अलावे भी कई लक्षण ह्यपरथीरोइडिस्म के केस में नज़र आते हैं।

  • भूख ज्यादा लगना फिर भी वजन घटना
  • घबराहट के साथ साथ चिड़चिड़ापन होना
  • बार बार मल त्याग करना और ढीली टट्टी होना
  • बाल झड़ना
  • आँख का बाहर निकलना, आँखों में जलन होना
  • दोहरी दृष्टि की समस्या होना
  • नींद की दिक्कत होना
  • महिलाओं में पीरियड्स की फ्रीक्वेंसी कम होना
  • ह्रदय गति का अनियमित होना
  • कमजोरी महसूस होना तथा हाथ और पैरों का कांपना
  • पसीना आना तथा गर्मी के प्रति संवेदनशील होना

इन लक्षणों के आधार पर यह तय नहीं कर लेना चाहिए कि मुझे थाइरोइड या ह्यपरथोरॉइडिस्म की बीमारी हो चुकी है। फिर भी ये लक्षण दिखने पर अपने डॉक्टर से जरूर मिलना चाहिए और उसके बताये टेस्ट आदि कराना चाहिए।
उचित समय पर इसका इलाज नहीं कराने पर इसमें कई तरह के कॉम्प्लीकेशन्स आ जाते हैं और यह जानलेवा साबित हो जाती है।


Complications caused by Hyperthyroidism


हाइपरथीरोइडिस्म को यदि शुरू में ही नियंत्रित न किया जाय तो स्थिति काफी खतरनाक साबित हो सकती है। इसमें कई तरह के कॉम्प्लीकेशन्स आ सकते हैं जैसे

  • ह्रदय गति का अनियमित होना
  • हार्ट फ़ैल होना
  • गर्भपात होना
  • ऑस्ट्रियोपोरोसिस यानि हड्डियों का टूटना
Thyrotoxic Crisis क्या है

हाइपरथीरोडिज्म के केस में जब सिम्पटम्स काफी तेजी से बिगड़ने लगता है तो ऐसी स्थिति को Thyrotoxic Crisis कहते हैं। यह स्थिति काफी नाजुक होती है अतः इसमें फ़ौरन इलाज़ करना जरुरी होता है।
ऐसी स्थिति में मरीज में निम्न लक्षण देखे जा सकते हैं
  • नाडी की गति अत्यंत तीव्र होना
  • अत्यधिक बेचैनी होना
  • बुखार होना
  • मूर्छित होना
  • घबराहट होना
हाइपरथीरोइडिज्म की जांच

थाइरोइड या हाइपरथीरोइडिज्म के लक्षण दिखने पर डॉक्टर कुछ जांच कराते हैं ताकि यह निश्चित किया जा सके कि ये लक्षण हाइपरथीरोडिज्म के ही हैं। इसका पता निम्न जांचो से लगाया जा सकता है

  • Thyroid stimulating hormone TSH रक्त जांच 

  • थाइरोइड अल्ट्रा साउंड 

  • थाइरोइड स्कैन

हाइपरथीरोडिज्म कन्फर्म हो जाने पर डॉक्टर मरीज का इलाज़ करते समय कई बातों का मसलन उम्र, वजन, शारीरिक अवस्था तथा अन्य लक्षणों को ध्यान में रखता है।






Hyperthyroidism क्यों होता है

हाइपरथीरोडिज्म के कई कारण हो सकते हैं

  • Hyperthyroidism कई कारणों से हो सकता है किन्तु उनमे सबसे मुख्य है Graves disease इस बीमारी में हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम एक एंटी बॉडी बनाता है। इस एंटीबाडी की वजह से थाइरोइड ग्रंथि में थाइरोइड हार्मोन का निर्माण ज्यादा होने लगता है।
  • थाइरोइड ग्रंथि में किसी वायरस या किसी अन्य वजह से सूजन का आ जाना।
  • कई बार थाइरोइड ग्लैंड में कुछ नोड्यूल उत्पन्न हो जाते हैं जिसकी वजह से थाइरोइड ग्रंथि अधिक मात्रा में थाइरोइड हारमोन उत्पन्न करने लगती है।
  • अधिक मात्रा में आयोडीन के सेवन से भी इस रोग के होने की संभावना हो जाती है।
  • पिट्यूटरी ग्रंथि जो थाइरोइड ग्रंथि को नियंत्रित करती है उसका सही काम नहीं करना।
Hyperthyroidism का उपचार

Hyperthyroidism के ट्रीटमेंट में मुख्य रूप से ये तीन प्रक्रिया की जाती हैं


  • एंटी थाइरोइड ड्रग्स द्वारा -ह्यपरथीरोइडिज्म में मुख्य रूप से थायरोक्सिन का ज्यादा उत्पादन होता है अतः डॉक्टर इसमें ऐसी दवाएं देते हैं जो नए हारमोनों का निर्माण रोकता है। इसके लिए प्रायः propylthiouracil और methimazole आदि दवाओं का प्रयोग होता है।
  • शल्य चिकित्सा द्वारा - जब दवाओं से काम नहीं होता है और स्थिति जटिल हो जाती है तब चिकित्सक thyroidectomy करते हैं जिसमे थाइरोइड का कुछ भाग या पूरा भाग निकाला जाता है।
  • बीटा ब्लॉकर्स द्वारा - थाइरोइड में जब मरीज की ह्रदय गति बढ़ जाती है तब इस प्रक्रिया को करके उसकी गति को सामान्य किया जाता है।
आइये अब हम देखते हैं Hypothyroidism क्या है


दोस्तों जैसा कि ऊपर हमने पढ़ा कि जब थाइरोइड ग्रंथि से थाइरॉक्सिन का बनना कम होने लगता है तो उस स्थिति को हाइपोथायरायडिज्म कहा जाता है। थाइरॉक्सिन कम बनने की वजह से हमारे शरीर का सारा मेटाबॉलिज़्म प्रभावित होने लगता है और इसकी वजह से हमारे शरीर के कई अंग सही से काम नहीं कर पाते।

क्यों होता है हाइपोथयरॉडिज्म ?



  • कई बार हमारे शरीर में एक ऑटो इम्म्यून डिसऑर्डर होने लगता है जिसे Hashimoto's Thyroids भी कहा जाता है। ऐसी स्थिति में थाइरोइड ग्लैंड सूजने लगती है और फिर धीरे धीरे नष्ट होने लगती है। ऐसी स्थिति में यह थाइरॉक्सिन हारमोन का पर्याप्त मात्रा में स्राव नहीं कर पाती और इसका पुरे शरीर पर प्रभाव पड़ने लगता है।
  • भोजन में आयोडीन न होना या कम होना।
  • सर्जरी या किसी अन्य वजह से थाइरोइड ग्रंथि का हटना या नष्ट होना।
  • रेडियोएक्टिव आयोडीन ट्रीटमेंट लेने पर भी इसके होने की सम्भावना बढ़ जाती है।
  • कैंसर में दी जाने वाली रेडिएशन किरणों का भी इसके नष्ट होने में बड़ा हाथ होता है।

Hypothyroidism के लक्षण

Hyperthyroidism में प्रायः निम्न लक्षण देखे जाते हैं

  • पेट साफ़ न होना
  • पीरियड्स अनियमित होना
  • त्वचा रूखी होना
  • बाल झड़ना
  • डिप्रेसन होना
  • अचानक वजन बढ़ना
  • ह्रदय गति का धीमा होना
  • घेघा होना
  • ठण्ड के प्रति अत्यधिक संवेदनशील होना
  • दिल की बीमारी
  • बाँझपन
  • मोटापा
  • जोड़ों का दर्द
  • पेट में पल रहे शिशु का विकास प्रभावित होना



हाइपोथाइरोडिज्म की जांच


हाइपोथाइरोडिज्म की जांच के लिए मरीज के खून की जांच की जाती है। इसके लिए डॉक्टर निम्न जांचो को कराते हैं



  • TSH यानि थाइरोइड स्टिमुलेटिंग हॉरमोन जांच
  • T4 थाइरॉक्सिन जांच
  • थाइरोइड अल्ट्रासाउंड के द्वारा
  • थाइरोइड स्कैन

हाइपोथाइरोडिज्म का उपचार

हाइपोथाइरोडिज्म होने की स्थिति में डॉक्टर मरीज के शरीर में T4 हॉरमोन की उपलब्धता बनाये रखने का प्रयास करते हैं। इसके लिए इस हारमोन की गोली लेने के लिए कह सकते हैं। चुकि यह गोली बराबर लेनी पड़ती है अतः समय समय पर थाइरोइड लेवल की जांच करवाना आवश्यक हो जाता है जिससे कि दवा की मात्रा कम या अधिक किया जा सके।


थाइरोइड के घरेलु उपचार

  • थाइरोइड में दूध में हल्दी पका कर पीने से काफी लाभ होता है। यदि दूध न हो तो केवल हल्दी भी भून कर खाया जा सकता है।
  • इस रोग में लौकी का जूस भी काफी लाभ पहुंचाता है। इसके लिए लौकी क जूस रोज सुबह खाली पेट सेवन करना चाहिए।
  • बादाम और अखरोट थाइरोइड में काफी उपयोगी होते हैं। इनमे मौजूद सेलेनियम इस रोग में काफी लाभदायक होता है।
  • तुलसी के रस के साथ एलोवेरा का रस मिलकर सेवन करने से इस बीमारी से छुटकारा पाया जा सकता है।
  • काली मिर्च थाइरोइड की बीमारी में काफी लाभदायक साबित होती है। इसके सेवन से इस रोग से बचा जा सकता है।
थाइरोइड चूँकि काफी जटिल बीमारी है अतः घरेलु उपचार से रहत न मिले तो बिना देरी किये डॉक्टर से मिलना चाहिए। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…

कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने से कैसे छुटकारा पाएं , कुछ घरेलु उपचार

कील मुंहासे या पिम्पल्स न केवल चेहरे की खूबसूरती को कम करते हैं बल्कि कई बार ये काफी तकलीफदेय भी हो जाते हैं। कील मुंहासो की ज्यादातर समस्या किशोर उम्र के लड़के लड़कियों में होती है जब वे कई तरह के शारीरिक परिवर्तन और विकास के दौर में होते हैं। 




कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने क्या हैं


अकसर किशोरावस्था में लड़के और लड़कियों के चेहरों पर सफ़ेद, काले या लाल दाने या दाग दिखाई पड़ते हैं। ये दाने पुरे चेहरे पर होते हैं किन्तु ज्यादातर इसका प्रभाव दोनों गालों पर दीखता है। इनकी वजह से चेहरा बदसूरत और भद्दा दीखता है। इन दानों को पिम्पल्स, मुंहासे या एक्ने कहते हैं। 




पिम्पल्स किस उम्र में होता है 

पिम्पल्स या मुंहासे प्रायः 14 से 30 वर्ष के बीच के युवाओं को निकलते हैं। किन्तु कई बार ये बड़ी उम्र के लोगों में भी देखा जा सकता है। ये मुंहासे कई बार काफी तकलीफदेय होते हैं और कई बार तो चेहरे पर इनकी वजह से दाग हो जाते हैं। चेहरा ख़राब होने से किशोर किसी के सामने जाने से शरमाते हैं तथा हीन भावना से ग्रस्त हो जाते हैं। 
कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने के प्रकार 

ये पिम्पल्स कई प्रकार के हो सकते हैं। कई बार ये छोटे …