Skip to main content

आलू से सोना बनाने की मशीन: A Motivational Story


आलू से सोना बनाने की मशीन
A Motivational Story

सुनो जी इस बार फसल के अच्छे दाम मिले तो मै अपने लिए झूमके बनवाऊंगी। मंडी जाते समय सूरज की पत्नी ने उससे कहा। सूरज की पत्नी को गहनों का बड़ा शौक था पर पैसों की कमी की वजह से कभी वह अपने शौक को हमेशा पूरा नहीं कर पाती। सूरज उसकी बातों को सुन हामी भरते हुए मंडी निकल पड़ा। 
 दिन भर मंडी में मोल भाव करने के बाद भी उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था। वह बहुत निराश था। आज भी उसके आलूओं की कोई खास कीमत नहीं मिली थी। वह उन्हें बिना बेचे  ही वापस आ रहा था। उसे अपना बड़ा नुकसान साफ़ साफ़ दीख रहा था। हालाँकि यह पिछले कई सालों से हो रहा था फिर भी इस बार उसे काफी उम्मीदें थीं। उसने बहुत कुछ सोच कर रखा था। लड़का इलाहबाद में रहता था  उसे खर्चे भेजने थे। सोचा था अच्छे दाम मिलेंगे तो लड़की के नाम से कुछ पैसे बैंक में फिक्स करा दूंगा शादी में काम आएंगे। पत्नी के झुमके भी लेने थे।उसका दिल बैठा जा रहा था।शाम के चार बज गए थे। उसे बड़ी तेज भूख लगी थी। वह एक भूजे वाली दूकान पर गया और दस रुपये का भूजा लेकर खाने लगा। भूजा खाने के बाद भूजा वाले पेपर के दोने को खोल कर वह देखने लगा। वह अख़बार का टुकड़ा था। वह उस कागज़ के टुकड़े को पढ़ने लगा। उस पेपर पर लिखा हुआ था " आलू से सोना बनाने की मशीन, एक तरफ से आलू  घुसेगा तो दूसरी तरफ से सोना निकलेगा " उसे बड़ा आश्चर्य हुआ। उसने उस पेपर के टुकड़े को अपने दोस्तों को दिखाया जो वही बैठ कर भूजा खा रहे थे।  उसके दोस्त और अन्य ग्राहक हंसने लगे। उसके दोस्तों ने कहा क्या यार तुम भी इन नेताओं के बयानों को लेकर बैठ गए। ये नेता पब्लिक को बेवकूफ समझते हैं।  चुनाव जीतने के लिए ये कुछ भी उल्टा पुल्टा बोल देते हैं। सूरज भूजा वाले को पैसे दिए और वापस घर की ओर  चल पड़ा। 



 घर पहुंच कर सूरज ने अपनी पत्नी को सब हाल सुनाया। पत्नी भी बहुत दुखी हुई। रात में सूरज को बड़ी देर तक नींद नहीं आयी। धीरे धीरे कई रोज़ बीत गए। सूरज अपने खेती के अन्य कामों में लग गया। एक दिन शाम को वह थका मांदा घर आया। घर पर आकर बैठा तो उसकी पत्नी उसके लिए पानी ले कर आयी। तभी उसकी छोटी बेटी दुकान पर से चिप्स खरीद कर लायी और फाड़ कर खाने लगी। उसने अपनी बेटी से कहा बेटा मुझे भी चिप्स खिलाओ। बिटिया ने कहा अरे पापा एक तो खुद ही इतना कम है ऊपर से आप मांगते हो। सूरज ने उसके चिप्स के पैकेट को देखा उसमे मुश्किल से सात या आठ चिप्स होंगे। उसने कहा ठीक है तुम ही खाओ लेकिन यह तो बताओ कितने में ख़रीदा ? बेटी ने कहा पापा पांच रुपये का मिलता है आप पैसे दो आपके लिए भी ला दूँ। सूरज ने कहा न न रहने दो। तुम केवल यह पैकेट दे दो मुझे। सूरज का दिमाग बड़ी तेजी से चल रहा था। वह पैकेट देखा, उसपर छपा प्राइस देखा। उसे बहुत आश्चर्य हुआ। वह उँगलियों पर कुछ गुणा भाग करने लगा। रात भर उसे नींद नहीं आयी। सुबह चार बजे उसकी आँख लगी। अगले दिन वह जब सो कर उठा तो उसके चेहरे पर एक अलग ही चमक थी। वह बाजार से चिप्स काटने वाली कुछ मशीन ले आया और अपने आलुओं के चिप्स काटने लगा। उसकी बीबी और बच्चे भी उसको देखकर चिप्स काटने लगे। दिन भर चिप्स काटना, धोना, उबालना और सुखाना चलता रहा। यह क्रम महीनो चला। इस बीच सूरज ने एक बड़ी कड़ाही ले ली थी और सूखे हुए चिप्स को वह तलने लगा। उसकी बीबी को मसालों की अच्छी समझ थी। वह एक विशेष प्रकार का तीखा, खट्टा, मीठा और नमकीन मसाला तैयार करके तले हुए चिप्स में मिला कर रखती जाती और उसके बच्चे उन्हें छोटी छोटी प्लास्टिक की थैलियों में भरने लगे। धीरे धीरे उन्होंने बहुत सारा पैकेट तैयार कर लिया। इसी बीच सूरज बाजार में कई दुकानों पर बात कर लिया और उन्हें वो पैकेट सप्लाई करने लगा। उसने दिन रात मेहनत की। शहर में घर घर जाकर वह अपने चिप्स को बेचा। वह हर दुकान पर हर स्कूल कॉलेज के गेट पर पहुंचना शुरू कर दिया।

Chips, Crisps, Snack, Pepper, Potato

धीरे धीरे वह कुछ पैसे कमा लिया। उसने उन पैसों को फिर इसी व्यापार में लगा दिया। उसने अच्छी पैकिंग मशीन ले ली। उसने कुछ लड़कों को भी अपने माल को बेचने के लिए रख लिया।  अब उसकी आमदनी बहुत बढ़ गयी थी। उसने अपने कमाए हुए पैसों से  बढ़िया चिप्स काटने वाली आटोमेटिक मशीन खरीद लिया। अब उसका उत्पादन काफी बढ़ गया था। उत्पादन बढ़ा तो वह कई दूसरे शहरों में अपना माल भेजने लगा। अब उसने लोन ले कर एक गाड़ी और थोड़ी जमीन  भी ले ली थी। जमीन पर उसने चिप्स की एक फैक्ट्री डाल ली। गाड़ी से वह ज्यादा ज्यादा माल भिजवाने लगा। अब तक उसके प्रोडक्ट की एक पहचान बन गयी थी बाजार में। वह एक ब्रांड के रूप में स्थापित हो रहा था।  उसने कई कर्मचारी भी बढ़ा लिए थे। वह कई गाड़ियां भी माल ढोने के लिए ले लिया था। धीरे धीरे वह कई अन्य चीज़ों का भी उत्पादन करने लगा। आज उसकी कई फैक्टरियां हो गयी थी। बड़ी बड़ी मशीनों से सारा काम स्वतः ही होता जाता था। अब उसका माल विदेशों में भी जाने लगा था। उसके पास कई गाड़ियां भी हो चुकी थीं। उसने काफी पैसे कमा लिए थे। आज उसकी गिनती शहर के रईशों में होने लगी थी।
एक दिन सूरज अपने बालकनी में बैठ कर चाय पी रहा  तभी उसकी पत्नी आयी। पत्नी ने कहा देखिये जी, मैंने कितना सुन्दर हार लिया है। हार सोने का था और बहुत ही खूबसूरत दीख रहा था। सूरज ने प्रशंसा करते हुए कहा बहुत ही सुन्दर है  लेकिन तुमसे ज्यादा  सुन्दर नहीं। पत्नी इठलाती हुई चली गयी। पत्नी को खुश देखकर सूरज भी  प्रसन्न था। उसे वो दिन याद आ रहे थे जब वह अपने बिजिनेस को शुरू किया था। उसके पास पैसे नहीं थे अपने काम को शुरू करने के लिए तभी उसकी पत्नी ने अपने सारे गहने  उतार कर उसके सामने रख दिए और कहा  आप अपना काम मत रोकिये। जब उसने कहा नहीं नहीं इसे मत दो कहीं ये डूब न जाएँ तो उसकी पत्नी ने मुस्कुरा कर कहा आपके आलू से सोना बनाने वाली मशीन पर मुझे पूरा भरोसा है आप काम शुरू कीजिए। पत्नी की इस बात ने उसके आत्म विश्वास को चट्टान बना दिया और फिर उसके संकल्प और उसकी  मेहनत ने उसे उसकी मंज़िल दिला दी। आज उसकी फैक्ट्रियां सोना उगल रही थी। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

Uric Acid: Lakshan Aur Niyantran Ke Upay Hindi Me

यूरिक एसिड और गाउट /अर्थराइटिस 

कई बार ऐसा होता है कि कुछ लोगों को चलने फिरने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है और उनके शरीर के जोड़ जोड़ में दर्द होता है। गांठे सूज जाती हैं और वह करीब करीब बेड पर हो जाता है। यह बीमारी काफी तकलीफदायक है क्योंकि यह सीधे मनुष्य के खड़े होने , चलने फिरने पर प्रभाव डालता है और इस वजह से वह लाचार और काफी हद तक दूसरों पर निर्भर हो जाता है। 
आइए जानते हैं ऐसा किन वजहों से होता है और कैसे इसका निदान करते हैं : मनुष्य के शरीर में विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात यूरिक एसिड का निर्माण होता है। जब किसी कारणवश शरीर में इसकी मात्रा बढ़ जाती है तब यह शरीर पर अपना नुकसान दिखाना शुरू करती है।  यूरिक एसिड या गठिआ क्या है What is Uric Acid
यूरिक एसिड कार्बन,हाइड्रोजन,नाइट्रोंजन तथा ऑक्सीजन परमाणुओं का एक हेट्रोसिक्लिक योगिक होता है जो शरीर के अंदर विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात् प्यूरिन के रूप में उत्पन्न होता है।इसी प्यूरिन के टूटने से यूरिक एसिड का निर्माण होता है।  जब हमारे शरीर में इसकी मात्रा सामान्य से अधिक हो जाती है तो इसे Hype

Chor Bazar Kise Kahte Hain, Duniya Ke Das Prasiddh Chor Bazar

बाजार तो आप खूब घूमे होंगे। चाहे वह गांव का हाट हो, शहर का मीना बाजार हो, मॉल हो या सुपर बाजार हो किन्तु जो अनुभव और मज़ा आपको किसी चोर बाजार में खरीदारी करते हुए आएगा उसकी तुलना आप किसी से नहीं कर सकते। भरी भीड़ में अपने पसंद की चीज़ को छांटना, भाव जांचना , मोल भाव करना एक अलग ही संतुष्टि प्रदान करता है। भारत के कई शहरों में चोर बाजार मिल जायेंगे। इतना ही नहीं विश्व के कई अन्य देशों में भी उनके अपने चोर बाजार हैं। हर  चोर बाज़ार की अपनी खासियत होती है। एक बात तो तय है कि किसी भी चोर बाजार में सेकंड हैण्ड और पुरानी वस्तुओं की बहुतायत होती है। किन्तु इसके साथ साथ यहाँ चोरी के माल भी खूब ख़रीदे और बेचे जाते हैं।  

चोर बाजार किसे कहते हैं
कई शहरों में पुरानी और सेकंड हैण्ड वस्तुओं की खरीद बिक्री के लिए एक जगह निश्चित रहती है। यहाँ पर इन वस्तुओं के अलावे डिफेक्टिव प्रोडक्ट्स, सरप्लस प्रोडक्ट और कबाड़ भी बेचे जाते हैं। इन्ही वस्तुओं की आड़ में चोरी के सामान भी यहाँ बेचे जाते हैं। शहर के जिस बाज़ार में इस तरह की खरीद बिक्री की जाती है उसे प्रायः चोर बाजार के नाम से जाना जाता है। 

चोर बाजार नाम कैसे पड़…