Skip to main content

Posts

Showing posts from April, 2019

Thyroid Kya Hai, Thyroid ke Lakshan Aur Upchar

थायरॉइड आज की तारीख में एक आम समस्या बनती जा रही है। लगभग हर परिवार में कोई न कोई इस समस्या से पीड़ित मिल जायेगा। यह सामान्य से लेकर कई गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है। हमारा खानपान, बिजी शिड्यूल, तनाव और हमारी जीवन शैली इस समस्या की वजह हो सकते है। 

थायरॉइड क्या होता है ?

थायरॉइड वास्तव में किसी बीमारी का नाम नहीं है। यह मानव शरीर के अंदर एक एंडोक्राइन ग्लैंड का नाम है। यह ग्लैंड गले के भीतर स्वर यंत्र के दोनों तरफ तितली के आकार में होती है। यह श्वास नली के ऊपर स्थित होती है। थाइरॉइड ग्रंथि का मुख्य कार्य शरीर के मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करना होता है। इसके लिए यह थाइरॉक्सिन नामक हॉर्मोन बनाती है। यह हार्मोन शरीर के सभी मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करता है जिसमे ऊर्जा उत्पादन में मदद करना, प्रोटीन उत्पादन आदि सम्मिलित है। 





थायरॉइड रोग क्या है ?

यहाँ तक तो सब ठीक है किन्तु स्थिति तब बुरी हो जाती है जब यह ग्रंथि सही तरह से अपना काम नहीं कर पाती है। कभी कभी यह थाइरॉक्सिन हॉर्मोन का उत्सर्जन अधिक मात्रा में करने लगती है तो कभी जरुरत से काफी कम। दोनों स्थितियां हमारे शरीर को प्रभावित करती है…

आलू से सोना बनाने की मशीन: A Motivational Story

आलू से सोना बनाने की मशीन A Motivational Story
सुनो जी इस बार फसल के अच्छे दाम मिले तो मै अपने लिए झूमके बनवाऊंगी। मंडी जाते समय सूरज की पत्नी ने उससे कहा। सूरज की पत्नी को गहनों का बड़ा शौक था पर पैसों की कमी की वजह से कभी वह अपने शौक को हमेशा पूरा नहीं कर पाती। सूरज उसकी बातों को सुन हामी भरते हुए मंडी निकल पड़ा। 
 दिन भर मंडी में मोल भाव करने के बाद भी उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था। वह बहुत निराश था। आज भी उसके आलूओं की कोई खास कीमत नहीं मिली थी। वह उन्हें बिना बेचे  ही वापस आ रहा था। उसे अपना बड़ा नुकसान साफ़ साफ़ दीख रहा था। हालाँकि यह पिछले कई सालों से हो रहा था फिर भी इस बार उसे काफी उम्मीदें थीं। उसने बहुत कुछ सोच कर रखा था। लड़का इलाहबाद में रहता था  उसे खर्चे भेजने थे। सोचा था अच्छे दाम मिलेंगे तो लड़की के नाम से कुछ पैसे बैंक में फिक्स करा दूंगा शादी में काम आएंगे। पत्नी के झुमके भी लेने थे।उसका दिल बैठा जा रहा था।शाम के चार बज गए थे। उसे बड़ी तेज भूख लगी थी। वह एक भूजे वाली दूकान पर गया और दस रुपये का भूजा लेकर खाने लगा। भूजा खाने के बाद भूजा वाले पेपर के दोने को खोल कर वह देखने लगा। वह …