Skip to main content

Honey Trap Kya Hai Hindi Me Jankari


किसी भी देश के लिए उसकी सुरक्षा उसके सबसे महत्वपूर्ण  जिम्मेदारिओं में से एक होती है। इसके लिए सभी देश अपनी अपनी सेनाएं रखते हैं। सेनाओं के अलावा भी देश कई अन्य तरह से अपनी  सुरक्षा के लिए प्रयासरत रहते हैं। इसके लिए वे कई तरह के साधन आजमाते हैं। जासूसी उन्ही साधनों में से एक है।  यह देश के दुश्मनों के बारे में महत्वपूर्ण सुराग ला के देता है और देश सुरक्षित रहता है। जासूसी भी कई तरह से की जाती है और इन्ही विधाओं में से एक है हनी ट्रैप। 
औरत हमेशा से मर्द के लिए कमजोरी रही है। और इसी कमजोरी का फायदा उठा कर मर्दों से राज उगलवाने के लिए उसका इस्तेमाल हर युग में होता आया है। जो काम ताकत के बल पर न निकल सका हो वहां औरतें अपनी अदाओं से उसे आसानी से निकाल ले आती हैं। हनीट्रैप मानव स्वाभाव के इसी पहलु पर आधारित होता है। 

हनीट्रैप क्या है  

जिस प्रकार एक मक्खी शहद के लालच में उसपर आकर बैठ जाती है और उसका रस पीने के चक्कर में उसी में चिपक कर रह जाती है और उसके बाद लाख कोशिश के बावजूद उसे छुटकारा नहीं मिलता उड़ नहीं पाती है ठीक उसी प्रकार हनी ट्रैप अपना काम करता है। एक बार हनी ट्रैप में फसने के बाद शिकार चाह कर भी इंकार नहीं कर सकता और जासूस को महत्वपूर्ण सुराग उपलब्ध करा देता है। जासूसी की इस विधा में प्रायः खूबसूरत लड़कियों का इस्तेमाल टार्गेटेड व्यक्ति से महत्वपूर्ण राज जानने के लिए किया जाता है। ये लड़कियां खुद एक जासूस होती हैं और अपने रूप, यौवन और लच्छेदार बातों से शिकार से पहले तो दोस्ती फिर नजदीकियां बढ़ाने लगती हैं और इसके बाद उनसे जरुरी जानकारियां हासिल करने लगती हैं। कई बार  शिकार की कोई कमजोरी जान लेने के बाद वह उसे ब्लैकमेल भी करने लगती हैं। 

Woman, Pretty, Girl, Hair, Beautiful

हनीट्रैप कैसे काम करता है 

वास्तव में हर देश अपने दुश्मन देश की कमजोरियों, सुरक्षा व्यवस्थाओं ,साज़िशों, रणनीतियों की जानकारी पाना चाहते हैं जिससे कि उन्हें अपनी रणनीति बनाने में आसानी हो और दुश्मनो से सतर्क रह सकें। इन सारी बातों के लिए हर देश अपने जासूसों पर निर्भर रहते हैं। उनके जासूस उन्हें ये सारी जानकारियां उपलब्ध कराते हैं। हनीट्रैप भी एक तरह की जासूसी ही है। इसमें महिलाओं का सहारा लिया जाता है। ये महिलाएं फेसबुक या हाई प्रोफाइल पार्टियों के जरिये टार्गेटेड लोगों से दोस्ती करती हैं। धीरे धीरे वे ईमेल और फोन नम्बरों का आदान प्रदान करती हैं फिर मिलना जुलना बढ़ाती हैं और धीरे धीरे वे टार्गेटेड व्यक्ति से नज़दीकियां बढ़ा लेती हैं। अपनी अदाओं और लच्छेदार बातों से वे जरुरी जानकारियां हासिल करती हैं। कई बार तो टार्गेटेड व्यक्ति का कोई आपत्तिजनक फोटो या कोई ऐसी गुप्त बात जिसे वह दुनिया के सामने जाहिर नहीं करना चाहता हो वे हासिल कर लेती हैं और फिर उसे ब्लैकमेल करने लगती हैं। बदनाम होने के डर से वह व्यक्ति महत्वपूर्ण सूचनाएं उसे देने लगता है। 
पाकिस्तान की आईएसआई भारत के खिलाफ हनीट्रैप को एक हथियार के तौर पर प्रयोग कर रही है। विगत में ऐसे कई मामले पकड़े गए हैं जिनमे हनीट्रैप का इस्तेमाल किया गया था। 

Fashion, Woman, Portrait, Model, Girl

इनमे से प्रस्तुत हैं कुछ चर्चित मामले 

सुनीत कुमार : करीब चार साल पहले 2014 में सुनीत कुमार का नाम चर्चा में आया था। सुनीत कुमार मेरठ के सैन्य क्षेत्र में तैनात था। वह फेसबुक के माध्यम से आईएसआई एजेंट पूनम प्रकाश और रिया से संपर्क में आया। जल्द ही यह संपर्क गहरी दोस्ती में बदल गया और उन दोनों ने उसे अपने जाल में ऐसा फांसा कि वह सेना की जरुरी सूचनाएं उन तक पहुंचाने लगा। सुनीत एक बार जो फंसा फिर आगे ऐसा करना उसकी मज़बूरी हो गयी और धीरे धीरे वह आतंकी संगठनों के करीब भी जा पंहुचा। 

पाटन  कुमार पोद्दार : पाटन कुमार पोद्दार भारतीय सेना में सूबेदार के पद पर कार्यरत था। वह आंध्रा प्रदेश के सिकंदराबाद छावनी की 151 एमसी /एमएफ डिटैचमेंट में पोस्टेड था। फेसबुक पर दोस्ती करना उसका शौक था। इस शौक का फायदा उठा कर अनुष्का अग्रवाल नाम की एक लड़की ने उसे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजा जिसे वह इंकार नहीं कर सका। दोनों में अच्छी खासी दोस्ती हो गयी। फिर उनमे बातचीत भी होने लगी। इसी दौरान वह अपनी निजी जानकारियां भी उससे साझा करने लगा। अनुष्का वास्तव में पाकिस्तानी जासूस थी। उसने अपने को उत्तर प्रदेश के झाँसी का बताया था। उसने बताया कि उसके पिता भारतीय वायु सेना में रिटायर्ड कमांडर हैं और अभी झाँसी में संयुक्त राष्ट्र की एक एनजीओ चलाते हैं। पाटन कुमार ने अनुष्का की बातों पर भरोसा करके उसे कई गोपनीय राज साझा कर दिए। 

रंजीत केके : रंजीत भटिंडा एयरफोर्स स्टेशन पर तैनात था। वह कई सालों से सोशल मीडिया पर दामिनी मैक्नॉट नाम की एक आईएसआई जासूस महिला के संपर्क में था। दामिनी अपने को यूके की एक मैगजीन की कर्मचारी बताकर उससे दोस्ती की थी। दामिनी ने मैगजीन में आर्टिकल के नाम पर रंजीत से एयरफोर्स की कई महत्त्वपूर्ण सूचनाएं हासिल कर ली थी। इसके बदले वह रंजीत के अकाउंट में एक बार 25000 और दूसरी बार 5000 रुपये भी ट्रांसफर कराये थे। दामिनी ने उसे इंग्लैंड में नौकरी का भी झांसा दिया। रंजीत उससे अकसर फेसबुक पर चैटिंग किया करता। इसी दौरान उसने एयर फ़ोर्स बेस और उसके लड़ाकू विमानों जैसे सुखोई के लोकेशन आदि के बारे में कई जानकारियां दामिनी से शेयर करने लगा। उसने वायु सेना के कई अधिकारिओं के मोबाइल नंबर और नाम भी दामिनी को उपलब्ध करवाये। बाद में हालांकि उसका खेल ख़त्म हो गया खुफ़िआ पुलिस ने रंजीत को गिरफ्तार कर लिया। 
हनीट्रैप का मामला इतना संवेदनशील और गंभीर है कि अब सरकारें भी सचेत हो गयी हैं और देश की सुरक्षा से जुड़े महत्वपूर्ण लोगों के सोशल मीडिया पर सरकारें प्रायः निगरानी किया करती हैं।  


Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने से कैसे छुटकारा पाएं , कुछ घरेलु उपचार

कील मुंहासे या पिम्पल्स न केवल चेहरे की खूबसूरती को कम करते हैं बल्कि कई बार ये काफी तकलीफदेय भी हो जाते हैं। कील मुंहासो की ज्यादातर समस्या किशोर उम्र के लड़के लड़कियों में होती है जब वे कई तरह के शारीरिक परिवर्तन और विकास के दौर में होते हैं। 




कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने क्या हैं


अकसर किशोरावस्था में लड़के और लड़कियों के चेहरों पर सफ़ेद, काले या लाल दाने या दाग दिखाई पड़ते हैं। ये दाने पुरे चेहरे पर होते हैं किन्तु ज्यादातर इसका प्रभाव दोनों गालों पर दीखता है। इनकी वजह से चेहरा बदसूरत और भद्दा दीखता है। इन दानों को पिम्पल्स, मुंहासे या एक्ने कहते हैं। 




पिम्पल्स किस उम्र में होता है 

पिम्पल्स या मुंहासे प्रायः 14 से 30 वर्ष के बीच के युवाओं को निकलते हैं। किन्तु कई बार ये बड़ी उम्र के लोगों में भी देखा जा सकता है। ये मुंहासे कई बार काफी तकलीफदेय होते हैं और कई बार तो चेहरे पर इनकी वजह से दाग हो जाते हैं। चेहरा ख़राब होने से किशोर किसी के सामने जाने से शरमाते हैं तथा हीन भावना से ग्रस्त हो जाते हैं। 
कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने के प्रकार 

ये पिम्पल्स कई प्रकार के हो सकते हैं। कई बार ये छोटे …

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…