Skip to main content

सोलह श्रृंगार कौन कौन से होते हैं

भारतीय समाज में शादी एक महत्वपूर्ण संस्कार माना जाता है। कहा जाता है कि शादी के बिना मनुष्य का जन्म अधूरा है। हिन्दू विवाह दूल्हा दुल्हन के लिए एक धार्मिक अनुष्ठान और एक दूसरे के प्रति वचन लेने का रस्म है जिसमे हमेशा साथ रहने और एक दूसरे की जिम्मेवारियों को निभाने के  वचन  लिए जाते हैं। यह जीवन में सबसे बड़ी ख़ुशी का अवसर भी होता है। अतः इसे एक उत्सब की तरह मनाया जाता है। यही कारण है कि इसमें साज श्रृंगार का बहुत महत्त्व होता  है।  लड़कियां इस दिन अपने जीवन का सर्वश्रेष्ठ श्रृंगार करना चाहती हैं। इन सारे श्रृंगारों में सोलह श्रृंगार का बहुत महत्त्व है। आइए देखते हैं ये सोलह श्रृंगार कौन कौन से होते हैं

Bride Bangladesh Wedding Ceremony Cute Hin

श्रृंगार सामग्री के आधार पर यह चार तरह का होता है

रंग से सम्बन्धी श्रृंगार
  • कुमकुम और बिंदी  : दुल्हनों और शादी शुदा लड़कियों के लिए यह एक अनिवार्य श्रृंगार है। इसे सिंदूर से दोनों भौओं के बीच लगाया जाता है। आजकल इसकी जगह रेडीमेड बिंदी ने ले लिया है। 

  •  सिंदूर : यह लड़कियों के लिए शादी की निशानी होती है। इसे      सर्वप्रथम दूल्हा लड़की की मांग में लगाता है। 

  • काजल : इसे सुरमा भी कहते हैं। इसे दिए की कालिख से तैयार किया जाता है। इससे आँखों की सुंदरता बहुत ही ज्यादा बढ़ जाती है। आजकल काजल के रेडीमेड पेंसिल भी मिलने लगे हैं।

 
  • लिपस्टिक या ओठलाली  : इससे दुल्हन अपने होठों का श्रृंगार करती हैं। इसे  प्रायः लाल रंग का होने की वजह से इसे ओठलाली भी कहा जाता है।

  • महावर या अलता : दुल्हन के पैरों की एड़ियों और तलवों के चारों और लाल रंग के महावर लगाए जाते हैं।

आभूषण से सम्बन्धी श्रृंगार

  • मांगटीका : इसे मांग के ऊपर पहना जाता है। यह एक आभूषण होता है जो प्रायः सोने का होता है। 

  • नथिया : यह नाक के बाएं भाग में पहना जाता है। यह भी एक आभूषण है। कई बार यह नाक से लेकर कान तक महीन जंजीरों से जुड़ा रहता है। 

  • हार : यह गले में पहना जाने वाला एक आभूषण है जो गले के साथ साथ पुरे चेहरे की सुंदरता को बढ़ा देता है। 

  • कर्णफूल : इसे झुमका भी कहा जाता है। यह कानों में पहना जाने वाला आभूषण है। 

  • चूड़ियां : चूड़ियाँ दोनों हाथों में पहनी जाती है। यह प्रायः शीशे की बनी होती है। कभी कभी सोने की चूड़ियां भी पहनी जाती है। 

Wedding India Hindu Bride Jewelry Fashion

  • अंगूठी और आरसी : इसे हाथों की उँगलियों में पहना जाता है। यह प्रायः सोने का होता है जिसमे कीमती पत्थर जड़े होते हैं। 

  • कमरबंद : इसे करधन भी कहा जाता है। यह कमर के चारों ओर पहना जाता है। यह सोने तथा चांदी के बनते हैं। 

  • पायल तथा बिछुआ : पायल पैरोँ में तथा बिछुए पैर की उँगलियों में पहना जाता है। ये प्रायः चांदी के बने होते हैं। 

  • केशपाशरचना : यह बालों को सजाने का आभूषण है। बालों को इसके अलावा फूलों के गजरों से भी सजाया जाता है। 

फूलों तथा पत्तों से श्रृंगार

  • मेहंदी  तथा गजरे : दोनों हथेलियों को सजाने के लिए मेहंदी से सुन्दर चित्रकारी की जाती है। मेहंदी का लाल रंग हथेलियों को बहुत ही आकर्षक बना देता है। वहीँ गजरे फूलों के बने होते हैं और बालों की शोभा बढ़ाते हैं। 

India Wedding Hands Henna Tattoo Pink Marr


वस्त्र आदि श्रृंगार

  • शादी का जोड़ा : यह सुर्ख लाल रंग की पोशाक होती है जिसे दुल्हनें शादी के समय पहनती हैं। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…

कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने से कैसे छुटकारा पाएं , कुछ घरेलु उपचार

कील मुंहासे या पिम्पल्स न केवल चेहरे की खूबसूरती को कम करते हैं बल्कि कई बार ये काफी तकलीफदेय भी हो जाते हैं। कील मुंहासो की ज्यादातर समस्या किशोर उम्र के लड़के लड़कियों में होती है जब वे कई तरह के शारीरिक परिवर्तन और विकास के दौर में होते हैं। 




कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने क्या हैं


अकसर किशोरावस्था में लड़के और लड़कियों के चेहरों पर सफ़ेद, काले या लाल दाने या दाग दिखाई पड़ते हैं। ये दाने पुरे चेहरे पर होते हैं किन्तु ज्यादातर इसका प्रभाव दोनों गालों पर दीखता है। इनकी वजह से चेहरा बदसूरत और भद्दा दीखता है। इन दानों को पिम्पल्स, मुंहासे या एक्ने कहते हैं। 




पिम्पल्स किस उम्र में होता है 

पिम्पल्स या मुंहासे प्रायः 14 से 30 वर्ष के बीच के युवाओं को निकलते हैं। किन्तु कई बार ये बड़ी उम्र के लोगों में भी देखा जा सकता है। ये मुंहासे कई बार काफी तकलीफदेय होते हैं और कई बार तो चेहरे पर इनकी वजह से दाग हो जाते हैं। चेहरा ख़राब होने से किशोर किसी के सामने जाने से शरमाते हैं तथा हीन भावना से ग्रस्त हो जाते हैं। 
कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने के प्रकार 

ये पिम्पल्स कई प्रकार के हो सकते हैं। कई बार ये छोटे …