Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2018

Hysteria Kya Hai

हिस्टीरिया महिलाओं में होने वाली एक मानसिक बीमारी है जो प्रायः पंद्रह से बीस वर्ष की अवस्था में ज्यादा होती है। यह वास्तव में न्युरोसिस का ही एक प्रकार होता है। इसे सामान्य भाषा में गुल्म रोग या वायु भी कहते हैं। इसे स्त्रियों का रोग इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसका अधिकांश शिकार स्त्रियां ही होती हैं। इसे कई बार लोग गलती से मिर्गी समझ लेते हैं क्योंकि इसके कुछ लक्षण मिर्गी से मिलते जुलते हैं। इसमें स्त्रियों में तरह तरह के दौरे, बेहोशी तथा अन्य हरकतें पायी जाती हैं।  हमारे समाज में हिस्टीरिया के रोगी को प्रायः हेय दृष्टि से देखा जाता है और इसके रोगी और उसके परिवार वालों को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है। इसका कारण यह है कि यह माना जाता है कि स्त्रियों में तीव्र यौन इच्छा को दबाने से इस रोग की उत्पत्ति होती है परन्तु यह पूर्ण सत्य नहीं है। यह रोग का एक कारण हो सकता है पर सम्पूर्ण कारण नहीं। कई बार कई अन्य मानसिक तनाव या सदमे की वजह से भी इस रोग की उत्पति होती है। मन में कोई इच्छा दबाना, कोई शिकायत या दुःख जिसे रोगी न तो किसी से कह सकता है और न उसे दूर कर सकता है और अंदर ही अंदर कुढ़ता रह…

Mirgi Ya Epilepsy Kya Hai

हमारा मस्तिष्क एक बहुत ही जटिल संरचना है। इसमें हर समय कई तरह की कॅल्क्युलेशन्स, इनपुट आउटपुट कमांड्स आदि के सिग्नल्स विद्युत् तरंगों के रूप में गतिमान होते रहते हैं। ये तरंगें तंत्रिकाओं न्यूरॉन्स के माध्यम से पूरे शरीर में प्रवाहित होती रहती हैं। इन्ही सिग्नल्स के द्वारा हमारा शरीर हरकत करता है और किसी काम को हम अंजाम देते हैं। हमारा देखना, सूंघना, सुनना, स्पर्श करके महसूस करना चलना फिरना आदि सारी क्रियाओं के कमांड्स हमारे दिमाग से मिलते हैं। इसके लिए इन अंगों के माध्यम से इनपुट सिग्नल्स विद्युत् तरंगों के माध्यम से दिमाग को भेजा जाता है जिसके फलस्वरूप दिमाग प्रतिक्रिया देता है और फिर विद्युत् तरंगों के माध्यम से उन्हें कमांड्स मिलते हैं। कभी कभी इन विद्युत् तरंगों के प्रवाह में ताल मेल के असंतुलन से शार्ट सर्किट जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है जिससे कि शरीर असामान्य हरकत करने लगता है और व्यक्ति को झटके आने लगते हैं दौरे पड़ने लगते हैं हाथ पैर अकड़ जाता है। इस तरह की स्थिति को सामान्य बोलचाल की भाषा में मिर्गी, अपस्मार, फरका या एपिलेप्सी कहा जाता है। 
मिर्गी वास्तव में एक न्यूरोलॉजिकल ड…

Meri Maa

आजखाने बैठा तो पत्नी ने बताया अचार खत्म हो गया है तब अचानक मुझे अहसास हुआ खाने में वह स्वाद ही नहीं है वही स्वाद जिसका मै बचपन से दीवाना था मुँह फीका हो गया। आज माँ को गए दो साल हो गए फिर भी उनके हाथो से बनाये हुए अचार आज तक खा रहा था। उनके हाथों में जादू था शायद इसीलिए दो सालों उनके हाथो के बने अचार का स्वाद लेता रहा। शायद मायें जानती है इसी लिए भरपूर अचार रहने के बावजूद वे हर साल इसे बनाती है।
दिखने में तो वह बहुत ही साधारण सी महिला थी पर पता नहीं क्यों मुझे वह दुनियां में वह सबसे खूबसूरत दीखती थी। उनका प्यार से सर पे हाथ फेरना, प्यार से गले लगाना थपकी देना मुझे लगता था जैसे संसार का सबसे किस्मत वाला प्राणी मै ही हूँ। मुझे अकसर लगता था कि माँ मुझे सबसे ज्यादा प्यार करती है पर बाद में मेरा यह भ्रम टूट गया जब मै देखा कि वह बहनो के लिए भी उतना ही रोती हैं।
लेकिन माँ का एक रूप और भी था। वह सख्त अनुशाशनप्रिय थीं। उनके सामने हम कोई भाई बहन गाली या कोई भी अपशब्द किसी को नहीं कह सकते थे। यहाँ तक उनके पीठ पीछे भी नहीं क्योंकि कोई न कोई चुगली कर देता था। पढाई के प्रति वह बड़ी ही सख्त थीं। मेरा अ…

Teamwork

लता को गाते सुनता हूँ मंत्रमुग्ध हो जाता हूँ। रोम रोम झंकृत और प्रसन्न हो जाता है और मुँह से वाह वाह निकल पड़ता है। उनकी कला ,उनकी साधना ,उनकी मेहनत का कायल हो जाता हूँ। किन्तु फिर सोचता हूँ उस गीतकार के बारे में जिसने उस गीत की रचना की , उस संगीतकार के बारे में जिसने सुर दिए,धुन निकाली। क्या उनकी मदद के बिना उस गाने में उतना ही आनंद आता ? शायद नहीं। दोस्तों किसी भी सफलता के पीछे केवल वह सफल व्यक्ति नहीं होता बल्कि एक पूरी टीम होती है जो उसे उस मुकाम तक ले जाती है। कई बार व्यक्तिगत सफलताओं में भी जहाँ हमें लगता है कि अमूक व्यक्ति ने अमूक सफलता हासिल की है वहां भी गहन विश्लेषण किया जाय तो उसके पीछे उसके परिवार ,समाज ,कोच का कुछ न कुछ रोल समझ में आता है। मै उस व्यक्तिगत सफलता में उस व्यक्ति की कड़ी मेहनत को कम करके नहीं आंक रहा हूँ बल्कि उसकी प्रशंसा  करता हूँ और मानता हूँ कि उसकी मेहनत के बिना सफलता नहीं मिल सकती थी। एक युवक पढ़ लिख कर अच्छी नौकरी प्राप्त कर लेता है बधाईओं का ताँता लग जाता है किन्तु जब उससे पूछा जाता है कि अपनी सफलता का श्रेय किसे देंगे तो वह अपने माँ बाप , पत्नी , दोस्त …