Skip to main content

Golden Ball Award Kya Hai



फीफा वर्ल्ड कप फाइनल में विजेता,उपविजेता टीमों को ट्रॉफी तो मिलती है साथ ही साथ और कई पुरस्कार भी दिए जाते हैं। उन्ही पुरस्कारों में एक गोल्डन बॉल अवार्ड भी है। यह अवार्ड उस खिलाडी को दिया जाता है जिसका प्रदर्शन उस वर्ल्ड कप के फाइनल मैच के दौरान सबसे बढ़िया रहा हो। गोल्डन बॉल अवार्ड विजेता का चुनाव फीफा की टेक्निकल कमिटी और मीडिया के प्रतिनिधियों के मतों के आधार पर होता है। इसके साथ ही रनर अप को सिल्वर बॉल और सेकंड रनर अप को ब्रॉन्ज़ बॉल दिया जाता है। इस अवार्ड की शुरुवात 1982 के फीफा वर्ल्ड कप से हुई थी। इस वर्ष इसके प्रायोजक एडिडास और फ्रांस फुटबॉल थे। 

Image result for fifa golden ball award

इसकी शुरुवात 1982 से अब तक गोल्डन बॉल पाने वाले खिलाडियों में Lionel Messi एक मात्रा खिलाडी हैं जिन्होंने दो बार इस अवार्ड को पाया है। इसके अलावा बॉल सीरीज के अवार्डों में सबसे ज्यादा अवार्ड Cristiano Ronaldo ने जीता है। उन्हें एक गोल्डन बॉल और तीन सिल्वर बॉल का अवार्ड मिल चूका है। 

गोल्डन बॉल अवार्ड के विजेताओं की लिस्ट

फीफा वर्ल्ड कप  स्पेन  1982                                                                

  • गोल्डन बॉल
       Paolo Rossi               
  • सिल्वर बॉल   


       Falcao            
  • ब्रॉन्ज़ बॉल     


      Karl Heinz Rummenigge 
           

फीफा वर्ल्ड कप  मेक्सिको  1986                                                         

  • गोल्डन बॉल
       Diego Maradona                       
  • सिल्वर बॉल
       Harald Schumacher                      
  • ब्रॉन्ज़ बॉल   
       Preben Elkjaer Larsen                     


फीफा वर्ल्ड कप  इटली  1990                                                             




  • गोल्डन बॉल 
      Sakvatire Schillaci                   
  • सिल्वर बॉल
       Lothar Matthaus                      
  • ब्रॉन्ज़ बॉल    
       Diego Maradona                     



फीफा वर्ल्ड कप  USA  1994                                    


                          

  • गोल्डन बॉल 
      Romario                   
  • सिल्वर बॉल  
      Roberto Baggio                 
  • ब्रॉन्ज़ बॉल    
      Hristo Stoichkov                          



फीफा वर्ल्ड कप  फ्रांस  1998                                                                



  • गोल्डन बॉल 
       Ronaldo                    
  • सिल्वर बॉल
      Davor Suker                    
  • ब्रॉन्ज़ बॉल    
      Lilian Thuram                   



फीफा वर्ल्ड कप  कोरिया और जापान  2002                                             



  • गोल्डन बॉल
       Oliver Kahn                      
  • सिल्वर बॉल
       Ronaldo                      
  • ब्रॉन्ज़ बॉल 
       Hong Myung bo
                      

फीफा वर्ल्ड कप  जर्मनी  2006                                                            

  • गोल्डन बॉल
       Zinedine Zidane                   
  • सिल्वर बॉल
      Fabio Cannavaro                        
  • ब्रॉन्ज़ बॉल
      Andrea Pirlo                     

फीफा वर्ल्ड कप  साउथ अफ्रीका  2010                         
                         
  • गोल्डन बॉल 
      Diego Forlan                     
  • सिल्वर बॉल
      Wesley Sneijder                      
  • ब्रॉन्ज़ बॉल  
      David Villa                   

फीफा वर्ल्ड कप  ब्राज़ील  2014                                                          

  • गोल्डन बॉल
       Lionel Messi                          
  • सिल्वर बॉल 
       Thomas Muller                         
  • ब्रॉन्ज़ बॉल
       Arjen Robbern                    

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…

कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने से कैसे छुटकारा पाएं , कुछ घरेलु उपचार

कील मुंहासे या पिम्पल्स न केवल चेहरे की खूबसूरती को कम करते हैं बल्कि कई बार ये काफी तकलीफदेय भी हो जाते हैं। कील मुंहासो की ज्यादातर समस्या किशोर उम्र के लड़के लड़कियों में होती है जब वे कई तरह के शारीरिक परिवर्तन और विकास के दौर में होते हैं। 




कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने क्या हैं


अकसर किशोरावस्था में लड़के और लड़कियों के चेहरों पर सफ़ेद, काले या लाल दाने या दाग दिखाई पड़ते हैं। ये दाने पुरे चेहरे पर होते हैं किन्तु ज्यादातर इसका प्रभाव दोनों गालों पर दीखता है। इनकी वजह से चेहरा बदसूरत और भद्दा दीखता है। इन दानों को पिम्पल्स, मुंहासे या एक्ने कहते हैं। 




पिम्पल्स किस उम्र में होता है 

पिम्पल्स या मुंहासे प्रायः 14 से 30 वर्ष के बीच के युवाओं को निकलते हैं। किन्तु कई बार ये बड़ी उम्र के लोगों में भी देखा जा सकता है। ये मुंहासे कई बार काफी तकलीफदेय होते हैं और कई बार तो चेहरे पर इनकी वजह से दाग हो जाते हैं। चेहरा ख़राब होने से किशोर किसी के सामने जाने से शरमाते हैं तथा हीन भावना से ग्रस्त हो जाते हैं। 
कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने के प्रकार 

ये पिम्पल्स कई प्रकार के हो सकते हैं। कई बार ये छोटे …