Skip to main content

Fifa Golden Boot Award Kya Hai

फीफा वर्ल्ड कप के एक सीजन में सबसे अधिक गोल करने वाले खिलाडी को 

अलग से एक पुरस्कार दिया जाता है। इसे गोल्डन बूट कहा जाता है। गोल्डन 

बूट का पुरस्कार  देने की शुरुवात बहुत पुरानी नहीं है। इसकी शुरुवात 1982 के 

वर्ल्ड कप से की गयी थी। उस समय इसे गोल्डन शू कहा जाता था। बाद में सन 2010

में इस नाम को बदल कर गोल्डन बूट रख दिया गया।

Image result for fifa golden shoes

आईये देखते हैं अब तक के गोल्डन बूट विजेता कौन कौन रहे हैं :

Image result for fifa golden shoes
  • गोल्डन शू अवार्ड 1982 

1982 में फीफा वर्ल्ड कप के मेजबान स्पेन था। इस टूर्नामेंट से ही गोल्डन शू 

अवार्ड की शुरुवात की गयी थी। इटली के पाओलो रोसी को  विश्व का सबसे पहला

 गोल्डन शू अवार्ड जीतने वाले खिलाडी बनने का सौभाग्य मिला।  उन्होंने पुरे  टूर्नामेंट

 के दौरान सबसे ज्यादा 6 गोल बनाये थे। फाइनल में भी पहला गोल उन्होंने ही बनाया 

 और इटली पश्चिम जर्मनी को 3 -1 से हरा कर कप जीत गयी। 

  • गोल्डन शू अवार्ड 1986 
इंग्लैंड के गैरी लानेकर को 1986 फीफा वर्ल्ड कप में गोल्डन शू का अवार्ड मिला था।

गैरी ने इस टूर्नामेंट में 6 गोल बनाये थे। अफ़सोस की बात है कि इंग्लॅण्ड को क्वार्टर फ़ाइनल

 में ही बाहर हो जाना पड़ा जब उसे अर्जेंटीना के हाथो करारी हार मिली। यह वर्ल्ड कप

 मेक्सिको में खेला गया था। 

  • गोल्डन शू अवार्ड 1990 
इस बार फीफा वर्ल्ड कप इटली में हो रहा था। जर्मनी ने अर्जेंटीना को हरा कर फाइनल 

मुकाबले को जीत लिया था। पर गोल्डन शू का हक़दार कोई और था। इटली के सल्वाटोर

 स्किलस (Salvatore Schillici ) गज़ब का प्रदर्शन किया और पुरे टूर्नामेंट के दौरन 

6 गोल किये। हालाँकि इटली सेमी फाइनल में अर्जेंटीना के हाथों हार कर तीसरे स्थान पर 

रही थी। 

  • गोल्डन शू अवार्ड 1994 
इस साल पहली बार गोल्डन शू का अवार्ड दो लोगों को एक साथ दिया गया था। टूर्नामेंट 

का आयोजन अमेरिका कर रहा था। रूस के ओलेग सलेन्को(Oleg Salenko)और बुल्गारिया

 के हृष्टो स्टईच्कोव(Hristo Stoichkov)  को संयुक्त रूप से इस अवार्ड के लिए चुना गया।

 दोनों ने छह छह गोल किये।  हालाँकि दोनों टीमें फ़ाइनल में जगह नहीं बना पायीं। इस वर्ल्ड कप

 का विजेता ब्राज़ील रहा  जिसने इटली को हराया। 

  • गोल्डन शू अवार्ड 1998  
यह टूर्नामेंट फ्रांस में हुआ था। इसमें फ्रांस ने ब्राज़ील को हरा कर विश्व कप पर कब्ज़ा जमाया था। 

इस टूर्नामेंट में क्रोएशिया के डावर सुकर ने सबसे ज्यादा 6 गोल किये थे और उन्हें इस पुरस्कार से 

नवाज़ा गया। 
  • गोल्डन शू अवार्ड 2002 
इस बार जापान और साउथ कोरिया ने संयुक्त रूप से इस वर्ल्ड कप के मेजबानी की थी। इस वर्ल्ड 

कप के हीरो रहे थे ब्राज़ील के रोनाल्डो जिन्होंने पुरे टूर्नामेंट में 8 गोल किये थे और इस अवार्ड पर 

अपना हक़ जमाये। फाइनल में भी रोनाल्डो का ही जलवा था जब ब्राज़ील ने जर्मनी को हराया। इस 

मैच में दोनों गोल रोनाल्डो ने ही किये थे। 
  • गोल्डन शू अवार्ड 2006 
जर्मनी के मिरोस्लाव क्लोसे (Miroslav Klose)ने इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 5 गोल किये थे। 

इस प्रकार उन्हें गोल्डन शू प्रदान किया गया। उनके इस प्रदर्शन के बावजूद जर्मनी  फाइनल नहीं 

जीत पाई। जर्मनी में हुए इस टूर्नामेंट में इटली ने चौथी बार विश्व कप पर अपना कब्ज़ा जमाया। 
  • गोल्डन बूट अवार्ड 2010 
साउथ अफ्रीका में हुए इस विश्व कप मुकाबले में गोल्डन शू का नाम बदल कर गोल्डन बूट कर दिया

गया। इस टूर्नामेंट में स्पेन ने नीदरलैंड को 1 -0 से हरा कर विश्व विजेता का ख़िताब हासिल 

किया। इस टूर्नामेंट में गोल्डन बूट जर्मनी के थॉमस मुलर को दिया गया उन्होंने 5 गोल किये थे। 
  • गोल्डन बूट अवार्ड 2014 
अबकी बार मेज़बानी का अवसर ब्राज़ील को मिला था। कोलम्बिआ के जेम्स रोड्रिगुएज(James 

Rodriguez) ने पुरे टूर्नामेंट के दौरान 5 गोल किये जिसके वजह से उन्हें गोल्डन बूट का अवार्ड

दिया गया। इस बार जर्मनी विश्व विजेता का ख़िताब जीता जब उसने फाइनल में ब्राज़ील को 7 -1 

से हराया। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने से कैसे छुटकारा पाएं , कुछ घरेलु उपचार

कील मुंहासे या पिम्पल्स न केवल चेहरे की खूबसूरती को कम करते हैं बल्कि कई बार ये काफी तकलीफदेय भी हो जाते हैं। कील मुंहासो की ज्यादातर समस्या किशोर उम्र के लड़के लड़कियों में होती है जब वे कई तरह के शारीरिक परिवर्तन और विकास के दौर में होते हैं। 




कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने क्या हैं


अकसर किशोरावस्था में लड़के और लड़कियों के चेहरों पर सफ़ेद, काले या लाल दाने या दाग दिखाई पड़ते हैं। ये दाने पुरे चेहरे पर होते हैं किन्तु ज्यादातर इसका प्रभाव दोनों गालों पर दीखता है। इनकी वजह से चेहरा बदसूरत और भद्दा दीखता है। इन दानों को पिम्पल्स, मुंहासे या एक्ने कहते हैं। 




पिम्पल्स किस उम्र में होता है 

पिम्पल्स या मुंहासे प्रायः 14 से 30 वर्ष के बीच के युवाओं को निकलते हैं। किन्तु कई बार ये बड़ी उम्र के लोगों में भी देखा जा सकता है। ये मुंहासे कई बार काफी तकलीफदेय होते हैं और कई बार तो चेहरे पर इनकी वजह से दाग हो जाते हैं। चेहरा ख़राब होने से किशोर किसी के सामने जाने से शरमाते हैं तथा हीन भावना से ग्रस्त हो जाते हैं। 
कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने के प्रकार 

ये पिम्पल्स कई प्रकार के हो सकते हैं। कई बार ये छोटे …

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…