Skip to main content

Who is Sapna Choudhry


कोई उसे यूट्यूब की मल्लिका कहता है तो कोई स्टेज डांस की रानी,जवां दिलोँ की धड़कन,सनसनी और मशहूर अदाकारा जिसे आज न केवल हरियाणा और उत्तर प्रदेश बल्कि पुरे भारत में बच्चा बच्चा जानता है। कहा जाता है कि उसके प्रोग्राम देखने लोग पचास पचास किलोमीटर दूर से पहुंच जाते हैं। जी हाँ आप सही पकड़े हैं हम मशहूर डांसर सपना चौधरी की ही बात कर रहे हैं।  

Image result for sapna choudhary

    सपना की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यूट्यूब पर उसके डांस के विडिओज़ के लाखों लाखों व्यूज रिलीज़ होने के साथ ही मिल जाते हैं। उसके स्टेज प्रोग्रामों में लोग ऐसे टूट पड़ते हैं जैसे वह कोई बॉलीवुड की हीरोइन हो। सपना ने कम उम्र  में जो लोकप्रियता और प्रसिद्धि पाई है उसे पाने के लिए बॉलीवुड की बहुत सारी हीरोइने तरसती हैं। 
    इतनी लोकप्रियता हासिल करने वाली सपना का बचपन बहुत बढियाँ नहीं बीता। जब वह केवल बारह साल की थीं तो उनके पिता की आकस्मिक मृत्यु हो गयी और उनके परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। 
    सपना का जन्म 25 सितम्बर 1990 में हरियाणा के रोहतक जिले में हुआ था। उनके पिता एक प्राइवेट कंपनी में कर्मचारी थें। घर की माली हालत बहुत अच्छी नहीं थी। सपना को बचपन से ही गीत संगीत और नृत्य में काफी दिलचस्पी थी। स्कुल के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में वे बढ़ चढ़ के हिस्सा लेती थीं। 2002 ईस्वी में जब वे महज 12 साल की थीं तो उनके पिता की आकस्मिक मृत्यु हो जाने से उनके परिवार को काफी झटका लगा। उनके परिवार में खर्च चलाने की समस्या आ गयी।अतः घर खर्च चलाने के लिए सपना ने स्टेज की ओर रुख किया और छोटे छोटे प्रोग्रामों में नाचने लगी। धीरे धीरे लोग उनके डांस को पसंद करने लगे और उनकी लोकप्रियता बढ़ने लगी। फिर उन्होंने इसे अपना करियर बना लिया और एक ओर्केस्ट्रा ज्वाइन कर लिया। इसी में उनका गाना "सॉलिड बॉडी रै" पुरे हरियाणा में धूम मचा दी और लोग उन्हें जानने और पहचानने लगे। धीरे धीरे एक के बाद एक गाने और डांस आते गए और वे लोकप्रियता और सफलता की ओर दिन दूनी रात चौगुनी रफ़्तार से दौड़ने लगी। उन्होंने बीस से अधिक गानो में अपनी आवाज़ दिया है। स्टेज डांस के अलावा वे फिल्मों में भी थोड़ा बहुत काम कर चुकी हैं। उनकी पहली फिल्म जर्नी ऑफ़ भांग ओवर थी जिसमे उन्होंने एक आइटम सांग किया था। इसके बाद वे वीरे की वेडिंग में "हट जा ताऊ " में नज़र आयी। इसके बाद फिल्म नानू की जानू में एक अहम् किरदार निभाया है। इसके अलावा "तेरे ठुमके सपना " एक आइटम सांग भी किया है। "तेरी आँखा का ये काजल "..हुस्न का लाडा ..     ये सारे गाने और उसपर उनके डांस काफी लोकप्रिय हुए हैं और बहुत ही जल्दी वे पुरे उत्तर भारत में लोकप्रिय हो गयी। आज स्थिति ये है कि उनको मोस्ट डिमांडेबल स्टेज परफॉर्मर माना जाता है। बहुत दूर दूर से लोग उनका डांस देखने आते हैं और उनके प्रोग्रामों में भीड़ का ये आलम है कि पाँव रखने को जगह नहीं मिलती। स्टेज और फिल्मो के आलावा उन्होंने टेलीविज़न पर भी काम किया है। उन्होंने बिग बॉस के 2017 सीजन में भाग लिया था। इसके अलावा कलर्स चैनल पर लाडो वीरपुर की मर्दानी में भी काम किया है। 
    कहा जाता है कि सफलता और विवाद में चोली दामन का रिश्ता है। सपना चौधरी भी अपवाद नहीं हैं। 17 फ़रवरी 2016 में सपना ने गुड़गांव में एक स्टेज प्रोग्राम किया था जिसमे उन्होंने एक रागिनी गाया था। गाने के बोल में कुछ विशेष जाति सूचक शब्दों का प्रयोग था जिससे उस समुदाय के लोग उनसे नाराज हो गए और एक दलित संगठन बहुजन समाज मोर्चा के सतपाल चौधरी ने उनके खिलाफ हिसार में एफ आई आर दर्ज कराया जिसमे उनपर एस सी एस टी एक्ट की धारा 34 के तहत मुक़दमा चला।  मामले की जांच के लिए एक एस आई टी का भी गठन किया गया। इस मुक़दमे ने उन्हें काफी परेशान कर दिया। बाद में वे सार्वजनिक रूप से माफ़ी भी मांगी। माफ़ी मांगने के बाद भी बहुत से तथाकथित दलित संगठनो के द्वारा सोशल मीडिया पर उन्हें काफी अपमान जनक शब्द लिखे जाते रहे। मानसिक प्रताड़ना को झेलते झेलते आखिर उन्होंने एक बार आत्महत्या करने की कोशिश की जिसमे उन्हें बाद में बचा लिया गया। हालाँकि 2016 में पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट से उन्हें जमानत भी मिल गया था। 
    सपना ने इस वर्ष अपने जीवन के 28 साल पूरे किये हैं। उन्होंने अभी तक शादी नहीं की है पर मीडिया रिपोर्ट के अनुसार  ए हूडा नाम के बॉयफ्रेंड से अफेयर चल रहा  है। सपना फिल्मों की बड़ी शौकीन है उनके पसंदीदा अभिनेता दिलजीत दोसांझ और अभिनेत्री दीपिका पादुकोण है। खेलों में उन्हें गीता फोगट,बबिता कुमारी और योगेश्वर दत्त पसंद हैं। उन्हें नेहा कक्कड़,सुनंदा शर्मा,कौर बी,मिस पूजा,प्रीत हरपाल और जस्सी गिल के गाने सुनने अच्छा लगता है। सपना प्रायः सलवार समीज और दुपट्टे में डांस करना पसंद करती है। उन्हें भोडे और अश्लील नृत्य पसंद नहीं हैं।    

    Popular posts from this blog

    RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

    ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

    RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

    RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

    RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

    RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
    की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

    ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

    ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
    मोटिवेशनल स्टोरी 

    "पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…

    कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने से कैसे छुटकारा पाएं , कुछ घरेलु उपचार

    कील मुंहासे या पिम्पल्स न केवल चेहरे की खूबसूरती को कम करते हैं बल्कि कई बार ये काफी तकलीफदेय भी हो जाते हैं। कील मुंहासो की ज्यादातर समस्या किशोर उम्र के लड़के लड़कियों में होती है जब वे कई तरह के शारीरिक परिवर्तन और विकास के दौर में होते हैं। 




    कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने क्या हैं


    अकसर किशोरावस्था में लड़के और लड़कियों के चेहरों पर सफ़ेद, काले या लाल दाने या दाग दिखाई पड़ते हैं। ये दाने पुरे चेहरे पर होते हैं किन्तु ज्यादातर इसका प्रभाव दोनों गालों पर दीखता है। इनकी वजह से चेहरा बदसूरत और भद्दा दीखता है। इन दानों को पिम्पल्स, मुंहासे या एक्ने कहते हैं। 




    पिम्पल्स किस उम्र में होता है 

    पिम्पल्स या मुंहासे प्रायः 14 से 30 वर्ष के बीच के युवाओं को निकलते हैं। किन्तु कई बार ये बड़ी उम्र के लोगों में भी देखा जा सकता है। ये मुंहासे कई बार काफी तकलीफदेय होते हैं और कई बार तो चेहरे पर इनकी वजह से दाग हो जाते हैं। चेहरा ख़राब होने से किशोर किसी के सामने जाने से शरमाते हैं तथा हीन भावना से ग्रस्त हो जाते हैं। 
    कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने के प्रकार 

    ये पिम्पल्स कई प्रकार के हो सकते हैं। कई बार ये छोटे …