Skip to main content

Sting Operation Kya Hai

स्टिंग ऑपरेशन पत्रकारिता की वह विधा है जिसमे टारगेट किये हुए व्यक्ति की जानकारी के बिना उससे किसी मुद्दे पर राज उगलवाया जाता है या उससे  उस कृत को करवा कर जिसका उस पर संदेह हो तथा  जो समाज या कानून की नज़र में गलत हो  गुप्त कैमरे या अन्य उपकरण  की मदद से विडिओ या ऑडियो क्लिप तैयार करके  की  जाती है तथा उसका प्रसारण करके उस सच को सबके सामने लाया जाता है ।

Sting Operation Ke Uddeshya 

स्टिंग ऑपरेशन का मुख्य उद्देश्य जनता के सामने व्यक्ति की नैतिक,सामाजिक और कानूनी अपराधों को सामने लाना है जिससे वह इंकार करता है। यह एक तरह से सबूत का कार्य भी करता है। आजकल इसका इस्तेमाल ब्लैकमेल करने में तथा अपने चैनल की टीआरपी बढ़ाने में भी किया जा रहा है।

Sting Operation Ka Itihas

1930 के आसपास स्टिंग शब्द अमेरिकी स्लैंग  में प्रयोग किया जाता था जिसका अर्थ चोरी या धोखेबाज़ी की क्रिया जिसकी योजना पहले से ही बना ली गयी हो, होता था। 1970 के आसपास अमेरिकी पुलिस अपराधिओं को फ़साने के लिए गुप्त ऑपरेशन करती थी जिसे स्टिंग ऑपरेशन कहा जाता था। बाद में इस तरह किसी भी अपराधिओं को पकड़ने के लिए बिछाए जाने वाले जाल को स्टिंग ऑपरेशन कहा जाने लगा। इसमें किसी रिश्वतखोर को रिश्वत लेते हुए हुए पकड़ने के लिए जानबूझ कर रिश्वत की पेशकश, किसी अवैध सप्लायर को पकड़ने के लिए ग्राहक बनकर जाना,किसी प्रतिष्ठित व्यक्ति के गिरे हुए चरित्र को दिखाने के लिए लड़की भेजना इत्यादि कई तरह की क्रियाएं हो सकती हैं। धीरे धीरे पुलिस की इस खुफ़िआ ऑपरेशन को पत्रकारिता ने अपना लिया और जल्दी ही यह पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना एक महत्वपूर्ण स्थान बना लिया। टीवी ,इंटरनेट, आधुनिक सूक्ष्म कैमरे ,सूक्ष्म रिकॉर्डिंग डिवाइस आदि आ जाने से इस विधा को और धार मिल गया है जिसका इस्तेमाल धड़ल्ले से हो रहा है।

Some Cases Of Sting Operation

2005 में शक्ति कपूर का स्टिंग ऑपरेशन जिसमे उन्हें  फिल्मों में रोल दिलाने के लिए लड़की को कास्टिंग काउच के लिए राज़ी करने का प्रयास करते हुए दिखाया गया था, काफी चर्चित हुआ था। संसद में प्रश्न पूछने के लिए धन लेते हुए कई सांसदों का विडिओ टेप जिसे कोबरा पोस्ट  डॉट कॉम के अनिरुद्ध बहल ने ऑपरेशन दुर्योधन के नाम से तैयार किया था,भारतीय राजनीती की चूले हिला कर रख दिया था। टीवी पत्रकारिता के दौर में एक नए धारदार हथियार के रूप में प्रयोग होने वाले इस घातक हथियार ने पत्रकारों को भी नहीं छोड़ा। जिंदल ग्रुप के द्वारा किये गए एक स्टिंग में ज़ी न्यूज़ के दो पत्रकारों को 100 करोड़ रुपये एक न्यूज़ को दबाने के लिए मांगते हुए देखा गया। जिसमे दोनों पत्रकारों बाद में गिरफ़्तारी भी हुई। 2006 में स्टार न्यूज़ के द्वारा एक स्टिंग किया गया था जिसमे गवाहों को मनु शर्मा पक्ष में गवाही देने के लिए राज़ी किया जा रहा था। तहलका डॉट कॉम द्वारा 2001  किये गए स्टिंग ऑपरेशन  ने देश में भूचाल ला दिया था जिसमे रक्षा मंत्रालय में रक्षा सौदों के एवज़ में रिश्वत  देते हुए दिखाया गया था। इस स्टिंग की वजह से तत्कालीन रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नानडिस को इस्तीफा देना पड़ा था।

Sting Operation Aur Mobile Kranti

स्टिंग ऑपरेशन ने टीवी और ऑनलाइन पत्रकारिता को एक नया आयाम दिया है। इसने समाज में होने वाले बहुत से अपराधों,भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी को उजागर किया है। आज मोबाइल क्रांति के दौर में इसका क्षेत्र काफी व्यापक हुआ है। हर हाथ में मोबाइल होने से इस तरह की गतिविधयां जो गलत होती हैं,सबके सामने आ रही हैं और अपराधी पकड़े भी जा रहे हैं।

Sting Operation Aur Hamari Privacy

स्टिंग ऑपरेशन जहाँ एक ओर कई तरह के अपराधों और गैर कानूनी कार्यकलापों को सामने लाया है वहीँ दूसरी तरफ एक नए बहस को जन्म दिया है। बहुत से विद्वानों का मानना है कि यह हमारे निजता के अधिकारों का अतिक्रमण करता है। बहुत से केसेज ऐसे मिले हैं जिसमे व्यक्ति के अंतरंग संबंधों का भी वीडियो बना कर उसे अपराध की तरह पेश करके उसे बदनाम किया गया। कई बार केवल ब्लैक मेल करने के लिए भी स्टिंग का प्रयोग किया गया।
पत्रकारिता के लिए स्टिंग का प्रयोग उचित है पर इसके साथ ही स्टिंग करने वाले की जवाबदेही भी तय होनी चाहिए तभी यह अपने उद्देश्य में सफल हो पायेगा। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…

कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने से कैसे छुटकारा पाएं , कुछ घरेलु उपचार

कील मुंहासे या पिम्पल्स न केवल चेहरे की खूबसूरती को कम करते हैं बल्कि कई बार ये काफी तकलीफदेय भी हो जाते हैं। कील मुंहासो की ज्यादातर समस्या किशोर उम्र के लड़के लड़कियों में होती है जब वे कई तरह के शारीरिक परिवर्तन और विकास के दौर में होते हैं। 




कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने क्या हैं


अकसर किशोरावस्था में लड़के और लड़कियों के चेहरों पर सफ़ेद, काले या लाल दाने या दाग दिखाई पड़ते हैं। ये दाने पुरे चेहरे पर होते हैं किन्तु ज्यादातर इसका प्रभाव दोनों गालों पर दीखता है। इनकी वजह से चेहरा बदसूरत और भद्दा दीखता है। इन दानों को पिम्पल्स, मुंहासे या एक्ने कहते हैं। 




पिम्पल्स किस उम्र में होता है 

पिम्पल्स या मुंहासे प्रायः 14 से 30 वर्ष के बीच के युवाओं को निकलते हैं। किन्तु कई बार ये बड़ी उम्र के लोगों में भी देखा जा सकता है। ये मुंहासे कई बार काफी तकलीफदेय होते हैं और कई बार तो चेहरे पर इनकी वजह से दाग हो जाते हैं। चेहरा ख़राब होने से किशोर किसी के सामने जाने से शरमाते हैं तथा हीन भावना से ग्रस्त हो जाते हैं। 
कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने के प्रकार 

ये पिम्पल्स कई प्रकार के हो सकते हैं। कई बार ये छोटे …