Skip to main content

Nipah Virus Kya Hai......... Kerala Me Bhay Ka Mahoul

केरल सरकार ने पूरे राज्य में मेडिकल इमरजेंसी लगा दी है। राज्य के सारे हॉस्पिटल और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हाई अलर्ट पर हैं। सारे मेडिकल स्टाफ की छुट्टियां रद्द कर दी गयी हैं। यह सारी तैयारी उस महामारी से निबटने के लिए किया जा रहा है जिसने केरल में इस समय भय का माहौल उत्पन्न कर दिया है। लोग पैनिक में हैं और घबराये हुए हैं।  बात ही कुछ ऐसी है मंगलवार तक दस लोगों की मौत हो चुकी है और दो लोगो की जान क्रिटिकल बनी हुई है। इन सारी मौतों के पीछे एक वायरस है जिसका नाम निपाह है। यह इतना खतरनाक है कि इसके मरीज के संपर्क में आते ही खुद को भी इन्फेक्शन हो जाता है। यही वजह है कि यह बहुत ही तेजी से फ़ैल रहा है। यहाँ तक इसका इलाज करते समय डॉक्टर और नर्सों को भी अति सावधानी बरतनी पड़ रही है। अभी एक नर्स की मौत मरीज की देख रेख करने में इसके इन्फेक्शन से हो गयी है।
केरल में निपाह से मौत का सबसे पहला केस कोझीकोड़ के एक परिवार से मिला जहाँ एक ही परिवार के दो भाइयों और एक दूसरी महिला की मौत हो गयी। केरल के स्वास्थ्य मंत्री के अनुसार 18 लोगों के सैंपल में 12 केस पॉजिटिव पाए गए है। इसके अलावा 9 लोग मेडिकल सर्विलांस पर रखे गए हैं। साथ ही करीब 94 लोगों को घर के अंदर ही अलग रखा गया है। इस महामारी से सबसे ज्यादा कोझीकोड़ और मल्ल्पुरम जिले प्रभावित हुए हैं। पेरम्बरा जहाँ से पहला केस मिला है वही पास में एक कुँए से निपाह वाइरस से संक्रमित कुछ चमगादड़ मिले हैं। उस कुँए को सील कर दिया गया है। एक नर्स लिनी पुतुस्सेरी जो निपाह वाइरस संक्रमित मरीज के इलाज टीम का हिस्सा थी उसको भी संक्रमण हुआ और उसकी मौत हो गयी। डॉक्टरों के अनुसार इसके संक्रमण के बाद मरीज में तेज सरदर्द, बुखार,मष्तिष्क की स्वेलिंग, निद्रा तथा कोमा की स्थिति भी आ सकती है। डॉक्टरों का कहना है कि 70 प्रतिशत केसेस में मरीज की मौत हो जाती है। अभी तक इसका कोई टिका नहीं खोजा जा सका है।

The First Case of Nipah Virus

निपाह वाइरस इन्फेक्शन का दुनिया में सबसे पहला केस 1998 मलयेशिआ सूअर पालने वाले किसानों में पाया गया था। 2004 में NVI के कुछ केसेस बांग्लादेश और सिंगापूर में भी पाए गए थे जिसमे खजूर तथा ताड़ की ताड़ी को पीने से कुछ लोग बीमार पड़ गए थे।

What is Nipah Virus

NVI यानि निपाह वाइरस इन्फेक्शन वाइरल जुनोसिस हेनीपवाईरस जीनस का होता है और जो मनुष्य और जानवर दोनों में संक्रमण कर सकता है। यह पहली बार टेरोपोडाई फॅमिली के फ्रूट चमगादड़ में पहचाना गया जो इस वाइरस के प्राकृतिक होस्ट होते हैं। मनुष्यों में 582 तरह के NIV संक्रमण में 54 प्रतिशत अत्यंत खतरनाक और घातक होते हैं।
Image result for nipah virus

Symptoms of NVI (Nipah Virus Infection)

इन्फेक्शन के 3 से 14 दिनों के भीतर इसके लक्षण दिखने लगते हैं। मरीज को प्रारंभ में तेज बुखार,सरदर्द और नींद आने लगती है जो बाद में मस्तिष्क ज्वर या दिमागी असंतुलन में परिवर्तित हो जाता है। लक्षण तेजी से बदलते हुए कोमा की स्थिति भी आ जाती है।

Treatment of Nipah Virus Infection

NVIका अब तक कोई इलाज नहीं ढूढ़ा जा सका है। बचाव ही इसका सबसे बढ़िया इलाज है। जितने भी NVI  सस्पेक्टेड मरीज हो उनका इलाज अलग रख कर किया जाना चाहिए। किसी भी स्वस्थ मनुष्य को उनके संपर्क में नहीं आने देना चाहिए। NVI मरीजों को इंटेंसिव सपोर्टिव केयर में रखा जाता है। यद्यपि इसकी कोई दवा अभी तक नहीं बनी है तो भी एंटी मलेरियल ड्रग क्लोरोक्विन को कुछ हद तक इसमें प्रभावी देखा गया है जो निपाह वाइरस को परिपक्व नहीं होने देता। हालाँकि एक मोनोक्लोनल एंटी बॉडी का निर्माण ऑस्ट्रेलिया में किया गया है पर वह अभी परिक्षण की अवस्था में है।  इसके अलावा रिबवेरिन के रिजल्ट कुछ उम्मीद बढ़ाते हैं किन्तु अभी तक मनुष्यों में इसका परिक्षण नहीं किया गया है।
चुकि अभी तक इसका कोई इलाज नहीं खोजा जा सका है अतः इसके रोकथाम के लिए कुछ और उपाय अपनाने की जरुरत है। इससे बचाव के लिए चमगादड़ और बीमार सूअरों को मानव क्षेत्र से दूर रखना चाहिए। ताड़ी जो चमगादड़ द्वारा चखा गया हो या उसमे चमगादड़ का मल,मूत्र  गिरा हो, पक्षियों  खासकर चमगादड़ के जूठे फल आदि का सेवन नहीं करना चाहिए।
Image result for nipah virus

Prevention from NVI

निपाह वाइरस से संक्रमित मरीज के इलाज के लिए विशेष प्रशिक्षित स्टाफ होने चाहिए। उनके पास खुद के बचने के लिए उचित मास्क और दस्ताने, जूते और विशेष यूनिफार्म होना चाहिए। ताड़ी, सूअर इत्यादि को रिहाइशी इलाकों से एकदम हटा देना चाहिए। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

Silicon Valley Kya Hai

जब जब मैं यह पढता हूँ कि बेंगलोर को भारत की सिलकॉन वैली कहते हैं तब तब मेरे मन में यह जिज्ञासा होती है आखिर यह सिलिकॉन वैली है कहाँ ? वास्तव में किसी शहर या घाटी का नाम है यह या कोई मिसाल है यह ? यदि मिसाल है तो यह नाम क्यों पड़ा ? इसके पीछे क्या कहानी है ? आइये जानते हैं  यह सिलिकॉन वैली क्या है ?

सिलिकॉन वैली कहाँ है ?
आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि दुनिया भर में प्रसिद्ध सिलिकॉन वैली वास्तव में किसी क्षेत्र या वैली का नाम नहीं है बल्कि यह कई शहरों का एक क्षेत्र है जो अपने तकनीक और सॉफ्टवेयर उद्योगों के लिए विश्व प्रसिद्ध है। सिलिकॉन वैली उत्तरी कैलिफोर्निया के दक्षिणी तरफ सैन फ्रांसिस्को बे एरिया में बसा एक क्षेत्र है जो उच्च तकनीक सम्बन्धी उद्योगों का पुरे विश्व में सबसे बड़ा गढ़ है। इस घाटी का सबसे बड़ा शहर सैन जोस है जो कैलिफोर्निआ का तीसरा सबसे बड़ा तथा संयुक्त राज्य अमेरिका का दसवां सबसे बड़ा शहर है।  पाओलो आल्टो, सांता क्लारा, माउंटेन व्यू और सनीवेल इस सिलिकॉन वैली के अन्य बड़े शहर हैं। सैन जोस की जी डी पी पर कैपिटा दुनिया तीसरी सबसे बड़ी जी डी पी पर कैपिटा मानी जाती है। 

कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने से कैसे छुटकारा पाएं , कुछ घरेलु उपचार

कील मुंहासे या पिम्पल्स न केवल चेहरे की खूबसूरती को कम करते हैं बल्कि कई बार ये काफी तकलीफदेय भी हो जाते हैं। कील मुंहासो की ज्यादातर समस्या किशोर उम्र के लड़के लड़कियों में होती है जब वे कई तरह के शारीरिक परिवर्तन और विकास के दौर में होते हैं। 




कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने क्या हैं


अकसर किशोरावस्था में लड़के और लड़कियों के चेहरों पर सफ़ेद, काले या लाल दाने या दाग दिखाई पड़ते हैं। ये दाने पुरे चेहरे पर होते हैं किन्तु ज्यादातर इसका प्रभाव दोनों गालों पर दीखता है। इनकी वजह से चेहरा बदसूरत और भद्दा दीखता है। इन दानों को पिम्पल्स, मुंहासे या एक्ने कहते हैं। 




पिम्पल्स किस उम्र में होता है 

पिम्पल्स या मुंहासे प्रायः 14 से 30 वर्ष के बीच के युवाओं को निकलते हैं। किन्तु कई बार ये बड़ी उम्र के लोगों में भी देखा जा सकता है। ये मुंहासे कई बार काफी तकलीफदेय होते हैं और कई बार तो चेहरे पर इनकी वजह से दाग हो जाते हैं। चेहरा ख़राब होने से किशोर किसी के सामने जाने से शरमाते हैं तथा हीन भावना से ग्रस्त हो जाते हैं। 
कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने के प्रकार 

ये पिम्पल्स कई प्रकार के हो सकते हैं। कई बार ये छोटे …