Skip to main content

Differences Between Shia And Sunni


संसार के अधिकांश धर्म किसी न किसी वजह से चाहे वह मान्यता हो,उत्तराधिकार हो ,रीति रिवाज़ हो या विश्वास हो कई कई भागों में बंटे हुए है। ईसाई प्रोटेस्टेंट और कैथोलिक में,हिन्दू शैव और वैष्णव में,बौद्ध महायान और हीनयान में, जैन श्वेताम्बर और दिगंबर में ,मुस्लिम शिया और सुन्नी में बंटे मिलते हैं। मुस्लिम वास्तव में कई भागों में बंटे हुए हैं पर उनमे शिया और सुन्नी मुख्या हैं। दोनों में इतना भेदभाव है कि वे एक दूसरे का पानी भी पीना नहीं पसंद करते। 
Shia Aur Sunni Me Kya Antar Hai:


  • शिया और सुन्नी में भेदभाव मोहम्मद साहेब की मृत्यु 632 ईस्वी के साथ ही शुरू हो गया था। मोहम्मद साहेब की मृत्यु के बाद उत्तराधिकारी के सवाल पर विवाद खड़ा हो गया। सुन्नियों ने उनकी मौत के बाद अबू बकर, उमर उस्मान और अली को अपना खलीफा मान लिया था। जबकि शिया मुस्लिम के अनुसार पहले के तीनो खलीफा गलत तरीके से बने थे। अली को जहाँ सुन्नी अपना चौथा खलीफा माना वहीँ शियाओं ने उन्हें खलीफा न मान कर अपना इमाम माना। शियाओं ने खलीफा की जगह इममियत में विश्वास रक्खा और इस तरह उनके 12 इमाम हुए। अली,अली के बेटे हसन और अली के दूसरे बेटे हुसैन इन तीनो को सुन्नी भी मानते हैं किन्तु खिलाफत और इमामत का विवाद ऐसा हुआ कि इस्लाम धर्म में दो भाग हो गए। समय के साथ इनके रीती रिवाज,नमाज पढ़ने के तरीके, विश्वास में अंतर आते गए। दोनों के बीच दूरिओं की वजह से बहुत सारी गलतफहमियां भी आती गयी और दोनों के बीच नफरत बढ़ती गयी। 

  • शिया और सुन्नी के नमाज पढ़ने के तरीके अलग अलग हैं। शिया दिन में केवल तीन बार नमाज़ पढ़ते हैं जबकि सुन्नी पांच बार नमाज़ पढ़ते हैं। शिया मगरिब और ईशा की नमाज़ को मिला देते हैं। शिया हाथ खोल कर नमाज़ पढ़ते हैं जबकि सुन्नी हाथ बांध कर। दोनों समुदाय अपने अपने तरीके को जायज़ और मोहम्मद साहेब का तरीका मानते हैं। 

  • शिया और सुन्नी मे मुख्य अंतर उनके त्यौहार मुहर्रम में दीखता है। मुहर्रम हिज़री सम्वत का एक महीना है। यह इमाम अली के बेटे हुसैन के शहादत का महीना होता है। इस महीने की 10 तारीख को कर्बला में हुसैन का क़त्ल कर दिया गया था। उन्ही की शहादत में शिया इस मौके पर मातम मनाते हैं। इस शहादत को याद करके वे ताज़िये निकालते हैं तथा जुलुस में खुद को खंजर ,चाकू से घायल भी कर लेते हैं। सुन्नी ऐसा नहीं करते और इन सब चीज़ों को गलत मानते हैं। सुन्नी इसे एक तरह की बुतपरस्ती यानि मूर्ति पूजा कहते हैं जो कि इस्लाम में जायज़ नहीं माना जाता।  शियाओं का मानना है कि हुसैन साहेब को सुन्निओं ने मारा था जबकि सुन्नी कहते हैं कि शियाओं ने खुद हुसैन साहेब की हत्या की और खुद ही रोते हैं। शिया पुरे सवा दो महीने मातम मनाते हैं और कोई भी ख़ुशी का काम इस दौरान नहीं करते जबकि सुन्नी हुसैन के क़त्ल का दुःख मनाते हैं पर शियाओं की तरह ताज़िये, जुलुस या इस तरह का कोई काम नहीं करते। इस दौरान कोई ख़ुशी का अवसर हो तो सुन्नी उसे मनाने से परहेज़ नहीं करते। 

  • शिया और सुन्नी का यह मतभेद मोहम्मद साहेब की मृत्यु के साथ ही शुरू हुआ था जो अब तक चला आ रहा है। शिया इमामों को मानते हैं जबकि सुन्नी खलीफाओं को मानते हैं। शिया सिर्फ अली को मानते हैं और खलीफाओं को मुनाफिक,ग़ासिब और ज़ालिम मानते हैं। शिया सजदे के समय अपना सर लकड़ी के बॉक्स या ईंट पर रखते हैं जबकि सुन्नी अपना सर जमीन पर रखते हैं। 

  • मुहर्रम के एक से दस तारीख तक शिया तबर्रा यानि एक प्रकार का अपमानजनक शब्द बोलते हैं।  वे अपनी मजलिसों में बोलते हैं कर्बला के क़त्ल में शरीक खलीफाओं सहबियों और सुन्निओं के लिए होता है जबकि सुन्नी ऐसा मानते हैं कि यह उनके खिलाफ बोला जाता है। 

  • शिया अस्थायी शादी मुतुआ करते हैं जबकि सुन्निओं में यह नहीं होता। 

  • शियाओं के धार्मिक स्थान मस्जिद,इमामबाड़ा,ईदगाह और अशुरखाना होते हैं जबकि सुन्निओं के धार्मिक स्थान मस्जिद और ईदगाह होते हैं। 

  • पुरे विश्व में शियाओं की जनसँख्या 200 मिलियन के आस पास है जबकि सुन्निओं की जनसँख्या करीब 1.2 बिलियन है। शिया मुख्य रूप से ईरान,इराक,यमन,बहरीन,अज़रबैज़ान,लेबनान और भारत सहित कई अन्य देशों में कुछ संख्या में हैं जबकि सुन्नी विश्व के अधिकांश मुस्लिम देशों पाए जाते हैं और साथ ही थोड़ी बहुत संख्या में हर जगह मिलते हैं। 

  • शियाओं के धार्मिक व्यक्तिओं को आयातुल्लाह,इमाम,मुज्ताहिद,अल्लामा,मौलाना,होजातोलेसलाम,सैयद,मौल्लाह कहा जाता है जबकि सुन्नी धार्मिक व्यक्तिओं को खलीफा,इमाम,मुजतहिद,अल्लामा,मौलाना इत्यादि बोला जाता है। 

  • शियाओं का नारा  "या अली" और "नारा ए हैदरी" है। शिया खैरल अमल शब्द का प्रयोग अधिक करते हैं तथा दुआ के बाद आमीन नहीं कहते। 

  • शिया मोहम्मद की पत्नी को षड्यंत्रकारी मानते हैं और मानते हैं कि उसी ने मोहम्मद साहेब को जहर देकर मारा था।  

  • शिया मज़ारों की इबादत करते हैं जबकि सुन्नी इसे गलत बताते हैं। 
दोनों समुदाय के बीच मतभेद की खाई  उत्तराधिकार से शुरू हुई और दूरिओं और ग़लतफ़हमिओं की वजह से यह और गहरी होती गयी नहीं तो दोनों में अधिकांश चीज़ें समान हैं जैसे दोनों अल्ला में विश्वास रखते हैं और एकेश्वरवादी हैं दोनों मोहम्मद साहेब को आखिरी पैगम्बर मानते हैं दोनों समुदाय एक ही कुरान में विश्वास रखते हैं दोनों के धार्मिक स्थल मस्जिद ही है। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…

पारस पत्थर : ए मोटिवेशनल स्टोरी

पारस पत्थर : ए मोटिवेशनल स्टोरी 

सोहन आज एक नयी एलईडी टीवी खरीद कर लाया था। टीवी को इनस्टॉल करने वाले मेकैनिक भी साथ आये थे। मैकेनिक कमरे में टीवी को इनस्टॉल कर रहे थे। तभी सोहन की बीबी उनके लिए चाय बना कर ले आयी। दोनों मैकेनिकों ने जल्दी ही अपना काम ख़तम कर दिया। सोहन नयी टीवी के साथ नया टाटा स्काई का कनेक्शन भी लिया था। चाय पीते पीते उन्होंने टीवी को चालू भी कर दिया था। उसी समय सोहन का पडोसी रामलाल भी आ गया। नयी टीवी लिए हो क्या ? उसने घर में घुसते ही पूछा।  हाँ लिया हूँ।  सोहन ने जवाब दिया। कित्ते की पड़ी ? यही कोई चौदह हज़ार की। हूँ बड़ी महँगी है। राम लाल ने मुंह बनाते हुए कहा। सोहन ने कहा मंहंगी तो है लेकिन क्या करें कौन सारा पैसा लेकर ऊपर जाना है। सोहन ने राम लाल को भी चाय पिलायी। चाय पीने के बाद राम लाल चला गया। सोहन अपने परिवार के साथ बैठ कर टीवी का आनंद लेने लगा।

इंसान अपने दुःख से उतना दुखी नहीं होता जितना दूसरे के सुख को देख कर

सोहन लकड़ी का काम किया करता था। खूब मेहनती था। अच्छा कारीगर था अतः उसके पास काम भी खूब आते थे।रात में अकसर दस बारह बजे तक वह काम किया करता था। इसी मेहनत का …