Skip to main content

Mahilaon Dwara Ghar Baithe Karne wale 10 Business


आज के इस मंहगाई के युग में यह बहुत ही जरुरी हो चूका है कि परिवार में पति पत्नी दोनों कमाये। इसके साथ ही महिलाएं अपने घर के कामों से खाली हो कर चाहती हैं कि कुछ करें अपनी प्रतिभा को निखारे तथा साथ ही आत्मनिर्भर या स्वालम्बी बने। अधिकांश घरों में महिलाएं घर की जिम्मेदारिओं में ऐसी उलझी रहती हैं कि वे चाह कर भी कोई बड़ा बिजिनेस या जॉब नहीं कर सकती। बड़े बिजिनेस  या जॉब के लिए ज्यादा समय देना पड़ेगा और ज्यादा समय घर से बाहर गुजारना भी पड़ेगा जो कि कई बार संभव नहीं हो पाता। घर की जिम्मेदारिओं को इग्नोर कर व्यवसाय करने का असर परिवार और बच्चों पर पड़ने लगता है। तो क्या महिलाएं स्वालम्बी नहीं बने ? नहीं बिलकुल नहीं। तो आईये देखते हैं कुछ ऐसे व्यवसाय जो घर से किये जा सकते हैं और बहुत ही काम पूंजी में शुरू भी हो सकते हैं :


10 बिजिनेस जो महिलाएं घर बैठे कम पूंजी में शुरू कर सकती हैं :




टेलरिंग का व्यवसाय : कपड़े हर व्यक्ति की जरुरत है और फैशन के इस दौर में हर दूसरे दिन नए कपड़ों की डिमांड इस बिजिनेस को काफी अच्छा स्कोप देता है। थोड़ी ट्रेनिंग के साथ इस व्यवसाय को शुरू किया जा सकता है। यह अपने घर से किया जा सकता है। इसके लिए शुरू शुरू में एक सिलाई मशीन,कैची , मेजरमेंट टेप की आवश्यकता होगी जो कि बाद में आवश्यकतानुसार बढ़ाया जा सकता है जिसके लिए कुछ और महिलाओं को सैलरी या पर कपडे पर रखा जा सकता है। आपकी क्रिएटिविटी और आपकी सटीक सिलाई ग्राहकों में आपकी पैठ बना सकता है। इसके लिए शुरू शुरू में आपको घर घर जा कर महिलाओं से अपने व्यवसाय के बारे में बताना होगा, अपना मोबाइल नंबर देना होगा तथा यदि आप वहां से कपड़े लाने और सिले हुए कपडे उनके घर तक पहुंचने की व्यवस्था रखती हैं तो यह अति उत्तम होगा। ज्यादातर ब्लाउज ,नाईटी ,पेटीकोट और सूट के ग्राहक ही मिलेंगे  अतः इनकी अच्छी प्रैक्टिस होनी चाहिए। बड़े शहरों को तो छोड़ दीजिये छोटे शहरों और कस्बो में भी यह व्यवसाय खूब चलता है। नए नए डिजाइन के लिए इंटरनेट जिसमे की यूट्यूब इत्यादि का सहारा लिया जा सकता हैलेकिन सबसे बढियाँ खुद की अपनी क्रिएशन होती है जो वास्तव में यूनिक होती है। फिटनेस और सधी हुई सिलाई का विशेष ध्यान रक्खें। एक बार आपका काम ग्राहक को पसंद आ जाये तो काम की कमी नहीं रहती और आसानी से बारह से पंद्रह हजार महीने कमाए जा सकते हैं। 

ब्यूटी पार्लर का व्यवसाय : सुन्दर दिखना कौन नहीं चाहता।? मानव की यही मानसिकता इस व्यवसाय का आधार है। अपनी सुंदरता को निखारना हर महिला का शौक होता है। बहुत ही कम पूंजी में इस व्यवसाय को शुरू किया जा सकता है। इसके लिए घर के ही एक कमरे का इस्तेमाल किया जा सकता है। किन्तु इस व्यवसाय को शुरू करने के पहले आप ब्यूटीशियन का कोर्स जरूर से करलें। इससे आपको  इस काम की अच्छी जानकारी हो जाएगी तथा ग्राहक भी आप पर भरोसा करेंगे। इसके लिए आपको एक चेयर और सामने की दिवार पर एक बड़े से शीशे की आवश्यकता होगी। आप चाहें तो इसके लिए किसी कारपेंटर से अच्छा इंटीरियर भी करा सकती हैं। इसके साथ ही आपको कुछ क्रीम,फाउंडेशन ,ब्लीच ,पाउडर ,स्प्रे बॉटल ,कंघी ,कैची,मेहदी  इत्यादि की आवश्यकता पड़ेगी जो कि स्थानीय मार्किट में आसानी से उपलब्ध है। इस काम के लिए थोड़ा सा प्रचार भी जरुरी होता है आप चाहे तो घर घर खुद जा कर महिलाओं से मिल सकती हैं और अपने काम के बारे में बता सकती हैं। आपको अपने पारलर के लिए एक साइनबोर्ड की भी आवश्यकता होगी। इस बिजिनेस को आसानी से अपने घर के कामो के साथ ही किया जा सकता है। कस्टमर की संतुष्टि पर आपको आगे शादी वगैरह में दुल्हन को सजाने का भी आर्डर मिल सकता है जिसमे अच्छी कमाई हो जाती है। 



ट्रेनिंग सेंटर या Hobbey Classes  : यदि आपके पास सिलाई ,बुनाई ,कढ़ाई ,ड्राइंग ,बिउटिशन,टॉयज मेकिंग ,मेहदी,कुकिंग  आदि का ज्ञान है तो यह बिजिनेस आपके लिए ही है। आप अपने घर में ही इन सब का प्रशिक्षण देने के लिए एक सेंटर खोल सकती हैं। इसके लिए आपके घर में एक बड़ा सा कमरा चाहिए होगा। इसमें आप जिस चीज़ की ट्रेनिंग देना चाहती है उससे सम्बंधित आवश्यक फर्नीचर या अन्य सामान होना चाहिए। आपके पास सिलाई मशीन,कैची,पेंट ब्रश , क्रीम ,पाउडर ,ब्लीच , फॉउण्डेशन ,मेहदी ,टॉयज मेकिंग का सामान इत्यादि होना चाहिए। आप एक निर्धारित फीस ले कर सारे कोर्स का प्रशिक्षण दे सकती हैं। इसके लिए अच्छे प्रचार प्रसार की आवश्यकता होगी किन्तु एक बैच करलेने के बाद आपके स्टूडेंट ही आपको और स्टूडेंट दिलाते है। अगर आपके ट्रेनिंग से आपके छात्राएं संतुष्ट हैं तो फिर आपको स्टूडेंट्स की कमी नहीं रहेगी। 

कोचिंग सेंटर : यदि आपको पढ़ाना अच्छा लगता है तो आप अपने घर पर बच्चों के लिए कोचिंग सेंटर खोल सकती हैं और अपने ज्ञान के माध्यम से अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर सकती हैं।अच्छे टीचर की काफी डिमांड रहती है और छोटे बच्चों को लोग अपने आस पास ही पढ़ने के लिए भेजना चाहते हैं। साथ ही हर मोहल्ले में पढ़ने वाले बच्चों की कमी नहीं रहती।  इसके लिए आपको एक कमरे की आवश्यकता होगी साथ ही आपको कुछ बेंच तथा एक बड़े से टेबल की जरुरत होगी। आप जिस भी विषय को अच्छे से पढ़ा सकती हैं उसे अपने आस पास के बच्चों को पढाना शुरू कर दीजिये। धीरे धीरे बच्चों की संख्या बढ़ने लगेगी। 
Class, Discussion, Girls, Study, Child



टिफ़िन सप्लाई : शहरों में बहुत से लोग बाहर से काम करने आते हैं। दोपहर के लंच के लिए वे या तो होटल पर निर्भर रहते हैं या फिर घर से टिफ़िन ले कर आते हैं। कइयों के पास होटल तक जाने का टाइम नहीं रहता तो कई सुबह इतनी जल्दी घर से निकले रहते हैं कि उतना जल्दी टिफ़िन बन नहीं पाता। कई लोग तो होटल का खाना रोज रोज पसंद नहीं करते। ऐसे में यदि उन्हें घर की तरह समय पर गरम गरम खाना मिले तो उन्हें काफी अच्छा लगता है। महिलाएं इस काम को अपने घर से बखूबी कर सकती हैं। इसके लिए उन्हें एक लड़का रखना होगा जो सब जगह टिफ़िन पंहुचा सके। खाने की क्वालिटी और स्वाद काफी मायने रखते हैं।शुरू शुरू में दस बारह टिफ़िन और एक लड़के से काम चल सकता है किन्तु डिमांड बढ़ने पर आपको संख्या बढ़ानी होगी। बैंक,ऑफिस, हॉस्टल,शॉप्स इत्यादि से ज्यादा आर्डर मिलते हैं। कई बार एक ही जगह से कई कई टिफ़िन के आर्डर मिल जाते हैं। यह अच्छे मुनाफे वाला व्यवसाय है किन्तु इसमें खाने की टाइमिंग का ख्याल करना होगा। कॉस्मेटिक्स शॉप : यदि आप ऊपर बताये गए कामों को नहीं कर सकती तो भी निराश होने की जरुरत नहीं है। आप अपने घर पर ही कॉस्मेटिक्स की शॉप खोल सकती हैं। फैशन की सामग्री जैसे क्रीम,शैम्पू , सौंदर्य साबुन, सेनेटरी नैपकिन या पैड्स ,नेल पोलिश ,चूड़ी ,इमीटेशन ज्वेल्लरी या अर्टिफिशियल ज्वेल्लरी ,पॉउडर ,बिंदी ,लिपस्टिक , बच्चों के पैंपर्स आदि बहुत सारी चीज़ें हैं जो हर घर में लगभग रोज ही इस्तेमाल होती हैं। इन सभी चीज़ों में बहुत काम पूंजी लगती है पर इनकी बिक्री अच्छी खासी है। हफ्ते में एक बार बाजार जा कर किसी होल सेलर के पास से सारी चीज़ों को लाया जा सकता है। एक बार काम स्टार्ट होने के बाद होल सेलर खुद ही आपकी शॉप पर माल पंहुचा देते हैं। मोहल्ले की महिलाएं आपकी कस्टमर्स बन सकती हैं चुकी उन्हें सारी चीज़े बाजार भाव से ही और पास में ही मिल रही हैं। कई चीज़े तो वह बाजार में पुरुष विक्रेताओं से मांगने में झिझक महसूस करती हैं वो आपके महिला होने के नाते बेझिझक खरीद सकती हैं। 

चाइल्ड केयर : यदि आपको बच्चों से प्यार है और उनका साथ आपको अच्छा लगता है तो यह बिजिनेस आपके लिए ही है। शहरों में आज के ज़माने में पति पत्नी दोनों कामकाजी हो गए हैं। बड़े बच्चे तो अपना ख्याल रख सकते हैं पर छोटे बच्चों के लिए उनको समस्या होती है। काम पर बच्चों को ले जाना , माँ और बच्चे दोनों  असुविधाजनक होता है और साथ ही काम भी प्रभावित होता है। अतः बहुत सी महिलाओं ने चाइल्ड केयर का काम स्टार्ट कर दिया है। यहाँ लोग सुबह में अपने बच्चों को दे जाते हैं और फिर शाम को वापस आते समय वापस ले जाते हैं। दिनभर आपको बच्चों की देखभाल करनी पड़ती है साथ ही उनके खाने पिने का ख्याल भी रखना पड़ता है। साथ ही उनका मनोरंजन भी करना पड़ता है। यह काम आप अपने घर के काम के साथ ही कर सकती हैं। बच्चों को सँभालने के एवज में पेरेंट्स से निर्धारित फ़ीस मिलती है। 

यूट्यूब चैनल :यदि आप अच्छा खाना बनाती हैं, अच्छी एक्टिंग करती हैं ,डांस करती हैं सिलाई या कढ़ाई करती हैं या कोई भी हुनर आपके अंदर है तो उसे आप यूट्यूब पर अपलोड करके अच्छे खासे पैसे कमा सकती हैं। खाना बनाने की रेसिपी , बुनाई के नए नए डिजाइन , सिलाई की ट्रेनिंग ,डांस की ट्रेनिंग जो भी आप अच्छे से जानती हैं उसका विडिओ बना कर यूट्यूब पर अपने चैनल पर अपलोड कीजिये। जब उस पर अच्छी ट्रैफिक आने लगेगीं तो आपकी इनकम भी बढ़ने लगेगी। यूट्यूब चैनल बनाने ,विडिओ अपलोड करने इत्यादि के बारे में विस्तार से जानना है तो हमारे पिछले पोस्ट को पढ़े। यह ऐसा बिजिनेस है जो आपको पैसा और शोहरत दोनों दिला सकता है। शुरू में यह काम आप अपने स्मार्ट फ़ोन से भी कर सकती हैं। 

जिम/योगा क्लासेस   :आज कल लोग हेल्थ कॉन्शस हो गए हैं। हर कोई अपने शरीर पर ध्यान दे रहा है। महिलाएं अपने पेट को कम करने के लिए तथा कमर की चर्बी को घटाने के लिए ,स्लिम ट्रिम दिखने के लिए तथा विभिन्न बिमारिओं से बचने के लिए काफी चिंतित रह रही हैं। जिम और योगा सेंटर ज्यादातर पुरुषों द्वारा संचालित होने की वजह से वो वहां जाना नहीं चाहती। ऐसे में यदि आपके पास जिम या योगा का प्रशिक्षण है तो आप इसका सेंटर खोल कर महिलाओं  को स्वास्थ्य और निरोगी बना सकती हैं और साथ ही अच्छी खासी आय भी अर्जित कर सकती हैं। योगा सेंटर के लिए तो कोई पूंजी की भी नहीं लगानी पड़ती है पर जिम के लिए कुछ इन्वेस्ट करना पड़ सकता है।  महिला द्वारा संचालित होने से महिलाएं और लड़कियां अच्छी संख्या में आ सकती हैं। 



फैशन बुटीक : आपकी कल्पना शक्ति और आपकी क्रिएटिविटी इस बिजिनेस को काफी ऊचाँइओ तक ले जा सकती है। नए नए डिजाइन के कपडे ,सूट ,ब्लाउज महिलाओं को काफी पसंद आते हैं। अतः इस व्यवसाय को तभी शुरू करें जब आप डिजाइनिंग में कुशल हों। अच्छे डिजाइन किये हुए कपडे की अच्छी कीमत मिलती है। घर से इस काम को भली भाति किया जा सकता है। कुछ अच्छे और यूनिक डिजाइन के कपडे पहले से सिल कर कमरे में शोरूम  सजा कर रखना होगा। साथ ही अपने डिजाइन किये हुए फोट किए अल्बम या लैपटॉप रखना होगा। यह काफी मार्जिन वाला बिजिनेस है। आपको हमेशा फैशन के ट्रेंड को समझना होगा बल्कि उसमे भी कुछ नया करना होगा। 


दोस्तों ,ये तो थी उन व्यवसायों की जानकारी जिन्हे महिलाएं घर बैठे बिना पूंजी के या बहुत ही कम पूंजी से स्टार्ट करके एक सम्मानजनक आय अर्जित कर सकती हैं। कैसा लगा कमेंट में जरूर बताईगा। आगे हम जानेंगे कुछ ऐसे व्यवसायों के बारे में जिन्हे कोई भी महिला या पुरुष बिना पूंजी या बहुत काम पूंजी से स्टार्ट करके अच्छा खासा आय अर्जित कर सकते हैं। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

Mumbai: Ek Laghu Bharat

मुंबई जिसे भारत का पश्चिम द्वार, भारत की आर्थिक राजधानी, सात टापुओं का नगर, सितारों की नगरी, सपनो का शहर, एक ऐसा शहर जहाँ रात नहीं होती आदि कई नामों से पुकारा जाता है, न केवल भारत का सर्वाधिक जनसँख्या वाला शहर है बल्कि यह दुनिया के सर्वाधिक जनसँख्या वाले शहरों में दूसरा स्थान रखता है और अनुमान है 2020 तक यह विश्व का सबसे अधिक जनसँख्या वाला शहर बन जाएगा। यह नगर वास्तव में भारत के समृद्धत्तम नगरों में से एक है। भारत के सबसे अमीर लोगों का निवास स्थान यहीं है और भारत के जीडीपी का पांच प्रतिशत हिस्सा यहीं से आता है। भारत के प्रति व्यक्ति की आय के मुकाबले मुंबई के प्रति व्यक्ति की आय तिगुनी है। यह भारत के सबसे अधिक गगनचुम्बी इमारतों वाला शहर है।



मुंबई की स्थापना और इतिहास

मुंबई का इतिहास बहुत पुराना जान पड़ता है।  कांदिवली के निकट पाषाण काल के मिले अवशेष यहाँ उस युग में भी मानव बस्ती होने की गवाही देते हैं। ई पूर्व 250 में जब इसेहैपटनेसिआ कहा जाता था तब के भी यहाँ  लिखित प्रमाण मिले हैं। ईशा पूर्व तीसरी शताब्दी में यहाँ सम्राट अशोक का शासन रहा फिर सातवाहन से लेकर इंडो साइथियन वेस्टर्न स्ट्रै…

Uric Acid: Lakshan Aur Niyantran Ke Upay Hindi Me

यूरिक एसिड और गाउट /अर्थराइटिस 

कई बार ऐसा होता है कि कुछ लोगों को चलने फिरने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है और उनके शरीर के जोड़ जोड़ में दर्द होता है। गांठे सूज जाती हैं और वह करीब करीब बेड पर हो जाता है। यह बीमारी काफी तकलीफदायक है क्योंकि यह सीधे मनुष्य के खड़े होने , चलने फिरने पर प्रभाव डालता है और इस वजह से वह लाचार और काफी हद तक दूसरों पर निर्भर हो जाता है। 
आइए जानते हैं ऐसा किन वजहों से होता है और कैसे इसका निदान करते हैं : मनुष्य के शरीर में विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात यूरिक एसिड का निर्माण होता है। जब किसी कारणवश शरीर में इसकी मात्रा बढ़ जाती है तब यह शरीर पर अपना नुकसान दिखाना शुरू करती है।  यूरिक एसिड या गठिआ क्या है What is Uric Acid
यूरिक एसिड कार्बन,हाइड्रोजन,नाइट्रोंजन तथा ऑक्सीजन परमाणुओं का एक हेट्रोसिक्लिक योगिक होता है जो शरीर के अंदर विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात् प्यूरिन के रूप में उत्पन्न होता है।इसी प्यूरिन के टूटने से यूरिक एसिड का निर्माण होता है।  जब हमारे शरीर में इसकी मात्रा सामान्य से अधिक हो जाती है तो इसे Hype