Skip to main content

Krodh: The Source Of Unlimited Energy


एक बार गाँधी जी दक्षिण अफ्रीका एक मुकदमे के सिलसिले में गए। वहां एक बार वे ट्रैन से सफर कर रहे थे। वे फर्स्ट क्लास कम्पार्टमेंट में बैठे हुए थे। तभी उस डिब्बे में एक अंग्रेज आया उसने गाँधी जी को फर्स्ट क्लास कम्पार्टमेंट में बैठे देखा तो उन्हें उतर जाने को कहा।  गाँधी जी ने कहा कि उनके पास फर्स्ट क्लास का टिकट है। इस पर उस अंग्रेज ने टीटी को बुलाया और फिर दोनों ने उनसे अपना डिब्बा चेंज करने को कहा। गाँधी जी ने मना कर दिया। उन्होंने कहा जब उनके पास वैध टिकट है तो फिर वे डिब्बा क्यों चेंज करें। इस पर टीटी ने उन्हें धक्के मार कर ट्रैन से उतार दिया। गाँधी जी ट्रैन से गिर पड़े। ट्रैन चली गयी।
अरुणिमा सिन्हा को कौन नहीं जानता। एक बार वे ट्रैन से दिल्ली जा रही थीं। ट्रैन में कुछ लुटेरे घुस आये और उनसे भी छिना झपटी करने लगे। उन्होंने विरोध किया तो वे उन्हें ट्रैन से नीचे फेक दिए। उन्हें काफी चोट आयी और वो दूसरी पटरी पर जा गिरी। उस पटरी पर आने वाली दूसरी ट्रेनों से उनका पैर कट गया। वे रात भर वहां पड़ी रही एक के बाद एक रात भर में दर्जनों ट्रेने उनपर से गुजरीं। सुबह गांव वालों ने देखा तो उन्हें अस्पताल ले गए। जहाँ से फिर उन्हें आल इंडिया मेडिकल इंस्टिट्यूट दिल्ली लाया गया और महीनो के इलाज के बाद वे जब निकलीं तो उनका पैर कट चूका था वे बैसाखी पर थीं।
दशरथ मांझी, एक ऐसा शख्स जिसने अकेले पहाड़ काट कर रास्ता बना दिया। एक बार दशरथ की बीबी बीमार पड़ी। उसे दवा और इलाज के लिए शहर ले जाना था। शहर वहां से ज्यादा दूर नहीं था पर बीच में पहाड़ होने की वजह से उसे काफी घूम के जाना पड़ा। इस घुमाव की वजह से अस्पताल पहुंचने में उसे काफी समय लग गया। ज्यादा समय लगने की वजह से उसकी बीबी मर गयी।
तीनो अलग अलग कहानियां हैं पर तीनो में एक चीज़ जो कॉमन है वह अपमान,दुःख  और गुस्सा। आप अपने को उनकी जगह रख के देखिये क्या आपको अपमान नहीं महसूस होता  और गुस्सा नहीं आता ? जरूर आता।  अब आईये देखते हैं उनके क्या परिणाम हुए। ट्रैन से फेके जाने के बाद गाँधी जी के जीवन का उद्देश्य ही बदल गया। उन्होंने उस अपमान और गुस्से को पॉज़िटिव एक्शन के तरफ बदल दिया और अंग्रेजों को पुरे भारत से निकलने में अपना पूरा जीवन लगा दिया और भारत को आज़ादी दिलाने में बहुत बड़ी भुमिका  निभाई।  दूसरे केस में अरुणिमा  सिन्हा अपना पैर गवाने के बाद गुमनामी में खो जाती। हो सकता है सरकार की तरफ से कुछ मदद मिल जाती और उसी से वो अपना जीवन व्यतीत करती पर क्रोध और दुःख ने उनके प्रतिशोध को हवा दी। किन्तु उन्होंने अपने इस क्रोध को सही दिशा दिया  अपने उद्देश्य में उसे ऊर्जा की तरह इस्तेमाल किया और माऊंट एवेरेस्ट पर चढ़ने वाली विश्व की पहली विकलांग महिला बन गयी। तीसरा उदहारण दशरथ मांझी का है। पत्नी की मृत्यु के बाद दुःख और क्रोध से भर कर उन्होंने ठान लिया कि जिस घुमाव की वजह से उनको अपनी पत्नी का इलाज कराने इतनी दुरी तय करनी पड़ी है और जिस वजह से उनकी पत्नी की मृत्यु हुई है उस घुमाव को ही ख़त्म कर दूंगा। उन्होंने अपने गांव और शहर के बीच के पहाड़ को अकेले ही काट कर हटा डाला और उसपर एक सड़क बना डाली। इस काम में उन्हें वर्षों लग गए ।
ऐसे हजारों उदाहरण हैं जिसमे गुस्सा,अपमान और दुःख उनके जीवन का टर्निंग पॉइंट बन गया और वे सफलता के शिखर पर पहुंच गए। जीवन में कई ऐसे पल आते हैं जिनमे हमें अपमानित होना पड़ता है ,दुःख झेलना पड़ता है और परिणाम स्वरुप हमें क्रोध आता है। अक्सर हम गुस्से का जवाब गुस्से में देते हैं और वहीँ के वहीँ झगड़ा ,मार पीट कर लेते हैं। इस प्रकार हम अपने क्रोध को शांत करते हैं। क्रोध का शांत होना जरुरी है पर क्रोध की अग्नि यानि ऊर्जा को यदि सही दिशा दे दी जाये तो चमत्कारिक परिणाम देखने को मिलते हैं। जरुरत है बस उस ऊर्जा को सही दिशा में प्रयोग करने की। यह बहुत बड़ी शक्ति होती है बहुत बड़ी प्रेरणा होती है। एकलब्य का उदहारण आपके सामने है।कालिदास,तुलसीदास को भी अपनी अपनी पत्निओं से तिरस्कार और अपमान का सामना करना पड़ा था। अम्बेडकर  को अपने जीवन में बहुत सारे अपमान का सामना करना पड़ा पर वे उस अपमान से उत्पन्न क्रोध का सही इस्तेमाल किये और परिणाम आपके सामने है।
क्रोध जीवन में जरुरी है। यह हमारे जीवन के लक्ष्य को निर्धारित कर देता है। यह हमें उस विशेष कार्य को करने के लिए प्रेरित करता है, डेडिकेट करता है। क्रोध में बड़ी ऊर्जा होती है। हमारा शरीर तमतमा जाता है नसों में रक्त प्रवाह की गति तेज हो जाती है। दिमाग लक्ष्य को छोड़ कर अन्य सारी बातों को भूल जाता है। नींद उड़ जाती है चैन छीन जाता है। भूख प्यास सब गायब हो  जाती है। अब जरुरत है इस ऊर्जा का सदुपयोग करने की।
सही दिशा देने की। जो लोग ऐसा कर पाते हैं सफलता उनके क़दमों को चूमती है। अतः इस चमत्कारिक अमीम शक्ति को पहचानिये और सही लक्ष्य बना कर उसमे झोक दीजिये। आपका जीवन बदल जायेगा,सफलता आपकी गलबहिया करेगी और आपका प्रतिशोध भी पूरा हो जायेगा।
जीवन में कई बार आपको अपमान,दुःख और क्रोध का सामना करना पड़ता है। अनावश्वक और तुच्छ चीज़ों पर यदि क्रोध आवे तो भरसक उससे बचने का प्रयास करें उसे इग्नोर करें। कभी भी अपमान ,दुःख और क्रोध का जवाब उसी तरह से मत दें अर्थात क्रोध के बदले क्रोध। आप झगड़ा कर बैठेंगे और उस अपार ऊर्जा को खो देंगे। आपका जीवन झगड़ा ,लड़ाई , शोध प्रतिशोध में ही बीत जायेगा। क्रोध या अपमान को कभी बर्दाश्त या पी के भी न रहें। अन्यथा वह ऊर्जा आपको अंदर ही अंदर जला डालेगी ,खोखला बना डालेगी , बीमार बना डालेगी। अपमान,दुःख और क्रोध को सकरात्मक बनाये उसे एक लक्ष्य दे दें और उससे उत्पन्न ऊर्जा को उसी में खर्च कर दें। यह आपको काफी दूर तक ले जायेगा।  बेहतर और बेहतर करने का प्रयास करें। 

Comments

Popular posts from this blog

Dubai: Duniya Ki Sabse Unchi Buildingon Ka Shahar

दुबई का नाम आते ही दिमाग में एक ऐसे शहर का ख्याल आता है जो चकाचौंध से भरपूर हो , जहाँ चौड़ी चौड़ी सड़कें हों जिन पर महँगी महँगी गाड़ियां पूरी स्पीड से दौड़ रही हों, सर से पांव तक सफ़ेद कपड़ों में लिपटे शेख हों और जहाँ अकूत दौलत हो, जहाँ आसमान से बातें करती ऊँची ऊँची अट्टालिकाएं हों  ।
दुबई ने मात्र पांच दशकों में ही तरक्की और विकास की जो मिसाल कायम की है वह अपने आप में किसी आश्चर्य से कम नहीं है।  दुबई ने साबित कर दिया है की बुलंद इरादें और दूर दृष्टि हो तो कुछ भी असंभव नहीं है। आइये जानते हैं दुनिया के इस अदभुत और लाज़वाब शहर के बारे में वो सब जो इसे दुनिया का एक अनोखा स्थान बनाते हैं।




दुबई किस देश में है

दुबई UAE यानि संयुक्त अरब अमीरात के सात राज्यों में से एक राज्य है जिसे अमीरात बोला जाता है। यह भले ही संयुक्त अरब अमीरात का एक हिस्सा है फिर भी यह कई मामलों में उससे काफी अलग है। यहाँ अन्य इस्लामिक देशों की तरह पाबंदियां नहीं हैं। यहाँ आकर आपको बिलकुल ही महसूस नहीं होगा कि आप एक इस्लामिक देश में हैं बल्कि आपको ऐसा लगेगा जैसे आप न्यूयोर्क या मुंबई में हैं। यदि आपको अरबी नहीं आती तो भी आपका …

ICC Cricket World Cup 2019: Schedule (Time Table) And Venue

2019 के आगमन के साथ ही एकदिवसीय क्रिकेट विश्व कप की उलटी गिनती शुरू हो रही है और क्रिकेट प्रेमी बेसब्री से नए विश्व चैंपियन का स्वागत करने  के लिए अपनी आँखे बिछाए बैठे हैं। क्रिकेट का महाकुम्भ इस बार इंग्लैंड और वेल्स की धरती पर 30 मई 2019 से 14 जुलाई 2019 तक खेला जायेगा। डिफेंडिंग चैंपियन ऑस्ट्रेलिया पर जंहा अपनी बादशाहत को कायम रखने का दबाव होगा वहीँ मेज़बान इंग्लैंड को अपने घरेलु दर्शकों के बीच पहली बार इस कप को पाने  का दबाव होगा। यह विश्व कप का बारहवां संस्करण होगा। इसमें सभी दस टीमें भाग लेंगी। सभी टीमें राउंड रोबिन में एक दूसरे से भिड़ेंगी और अंक तालिका में सर्वोच्च स्थान पाने वाली चार टीमों में पहले और चौथे और दूसरे और तीसरे स्थान पर आने वाली टीमों में बीच सेमी फाइनल मैच होंगे। इन दोनों टीमों के विजेताओं के मध्य फाइनल मैच 14 जुलाई 2019 को खेला जायेगा।


भारतीय समयानुसार ICC क्रिकेट विश्व कप 2019 का शिड्यूल (टाइम टेबल) और वेन्यू

पहले राउंड में कुल 45 मैच खेले जायेंगे

Date, Time (IST) Between Venue

ICC World Cup: All Why, How, When and Whats

बहुप्रतीक्षित एकदिवसीय मैचों का ICC क्रिकेट वर्ल्ड कप का बारहवाँ संस्करण 2019 में इंग्लैंड और वेल्स में होने जा रहा है। इसमें जहाँ वर्तमान चैंपियन ऑस्ट्रेलिया अपने ख़िताब को बचाने उतरेगी वहीँ इंग्लैंड और न्यूजीलैंड तथा कई अन्य देशों के सामने इस विश्व कप को पहली बार अपने देश लेजाने का दबाव भी होगा। प्रतियोगिता रोबिन राउंड मुकाबले के आधार पर होगी जिसमे ऊपर की चार टीमों को सेमी फाइनल खेलने का मौका मिलेगा। सेमी फाइनल विजेताओं के बीच फाइनल मुकाबला होगा और विजेता टीम विश्व कप की  हक़दार होगी।
क्रिकेट का हर टूर्नामेंट बेहद ही रोमांचक होता है फिर तो यह विश्व कप का मुकाबला है। दर्शक जूनून की हद तक जाकर मैचों को देखते हैं और बड़ी ही बेसब्री से हर मुकाबले का परिणाम जानने की प्रतीक्षा करते हैं। दर्शकों में टूर्नामेंट के रिकार्ड्स के साथ साथ हर छोटी बड़ी बातों को जानने की उत्सुकता रहती है। क्रिकेट प्रेमियों की इसी जरुरत को पूरा करने के लिए प्रस्तुत है विश्व कप सम्बन्धी कुछ रोचक जानकारियां :



ICC वर्ल्ड कप 2019  में कितनी टीमें भाग ले रहीं हैं?

ICC वर्ल्ड कप 2019 में कुल दस टीमें भाग ले रहीं हैं  इंग्लै…