Skip to main content

Murkh Shishya

मुर्ख शिष्यों की कहानी 

एक गुरु जी थें।  उनके दो शिष्य थे। गुरूजी दोनों शिष्यों में सामान रूप से ज्ञान बाटते थे। दोनों शिष्य भी खूब मन लगा कर ज्ञान अर्जन करते थे। इसके साथ ही दोनों शिष्य गुरूजी की खूब सेवा किया करते थे। गुरूजी को बहुत आराम था। लेकिन सब कुछ अच्छा होने के बावजुद एक कमी थी।  दोनों शिष्यों में आपस में खूब ईर्ष्या की भावना थी।  दोनों अपने अपने ज्ञान को आगे बढाकर एक दूसरे को पीछे न करके एक दूसरे की टांग खींच कर आगे बढ़ने का प्रयास करते रहते थे। हालाँकि गुरूजी इन बातों से अनभिज्ञ थे। समय बीतता गया। एक दिन एक शिष्य को किसी काम से अपने घर जाना पड़ा। अब सारा काम ,सारी सेवा दूसरे वाले शिष्य को करनी पड़ती थी। उसको अपने अलावा पहले वाले शिष्य के हिस्से का भी काम करना पड़ता था। वह मन ही मन बहुत खिन्न रहने लगा। पहले वाले शिष्य के जिम्मे का काम वह बेमन से करता था। अतः सारा काम अस्त व्यस्त होने लगा। आश्रम की सारी व्यवस्था गड़बड़ा गयी। गुरूजी कई बार उसे डाट भी देते थे। इस पर वह और खिन्न रहने लगा और अपने साथी के प्रति और ईर्ष्या की भावना से भर गया। अब वह और भी लापरवाह हो गया और अपने साथी के जिम्मे वाले कामो को या तो वो नहीं करता या बहुत ही लापरवाही से करता।  गुरूजी की डाट भी बढ़ती गयी और अपने साथी के प्रति उसकी नफरत भी। इस तरह काफी दिन हो गए। एक दिन किसी बात पर उसे बहुत डाट सुननी पड़ी। उसने सोचा सब उसी साथी की वजह से हो रहा है। खुद तो घर जा कर मौज कर रहा है और मुझे उसका काम करना पड़ रहा है।  उसके अंदर प्रतिशोध की भावना धधक रही थी। रात में  गुरूजी ने उसे अपने पाव दबाने के लिए बुलाया। वह गुरूजी के पाव दबाने लगा। एक पाव दबाने के बाद गुरूजी ने उसे दूसरा पाव दबाने के लिए बोला  जो उसका साथी दबाया करता था।  नफ़रत और प्रतिशोध से पहले से ही भरे शिष्य के क्रोध का ठिकाना न रहा। उसने पाव दबाना शुरू किया और सोचने लगा यह मेरे दुश्मन के हिस्से का पैर है। मै उसके हिस्से का काम क्यों करूँ। सोचता सोचता उसने पैर खूब जोर से ऐठ दिया। गुरूजी बाप बाप चिल्लाने लगे। उसने गुरूजी का पैर तोड़ दिया। गुरूजी ने उसे बहुत डाटा। कुछ दिनों बाद पहला वाला शिष्य वापस आ गया। उसे सारी बातें पता चली। उसमे भी ईर्ष्या की भावना थी ही वह और बढ़ गयी। वह दूसरे वाले शिष्य  बदला लेने के अवसर की ताक में रहने लगा। एक दिन दूसरा वाले शिष्य को किसी काम से कुछ दिनों के लिए बाहरजाना पड़ा।  अब पहले वाले शिष्य को भी सब वही करना पड़ता था जो एक समय दूसरे वाले शिष्य को करना पड़ता था। वह जब भी दूसरे वाले शिष्य के हिस्से का काम करता , क्रोध  से भर जाता। वह सोचने लगता कि मेरी अनुपस्थिति में मेरे साथी ने जब मेरा काम नहीं किया तो मैं उसका काम क्यों करूँ ? और एक दिन जब गुरूजी ने उससे अपने पाव दबाने के लिए कहा उसके  अपने वाले हिस्से का पाव तो पहले से टूट चूका था सो   गुरूजी के दूसरे वाले पैर जो दूसरा वाला शिष्य दबाया करता था उसे दबाना  शुरू किया और थोड़ी देर बाद  ऐठ कर तोड़ दिया।  इस तरह से गुरूजी के दोनों पैर बेकार हो गए और गुरूजी ने उसे और दूसरे वाले शिष्य को उसके आने के बाद आश्रम से निकाल  दिया। इस तरह से दोनों शिष्यों का  जीवन बर्बाद हो गया। 


Moral : इस कहानी से हमें यही शिक्षा मिलती है कि हमें ईर्ष्या और नफ़रत की भावना नहीं रखनी चाहिए। और आगे बढ़ने के लिए एक दूसरे की टांग न खींच कर ज्ञानार्जन के माध्यम से आगे  बढ़ना चाहिए। हम आपसी रंजिश से न केवल अपना बल्कि पूरी टीम का नुकसान करते हैं। किसी भी टीम में मेरा काम तेरा काम की कोई जगह नहीं होती बल्कि टीम का लक्ष्य ही सब कुछ होता है। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…

पारस पत्थर : ए मोटिवेशनल स्टोरी

पारस पत्थर : ए मोटिवेशनल स्टोरी 

सोहन आज एक नयी एलईडी टीवी खरीद कर लाया था। टीवी को इनस्टॉल करने वाले मेकैनिक भी साथ आये थे। मैकेनिक कमरे में टीवी को इनस्टॉल कर रहे थे। तभी सोहन की बीबी उनके लिए चाय बना कर ले आयी। दोनों मैकेनिकों ने जल्दी ही अपना काम ख़तम कर दिया। सोहन नयी टीवी के साथ नया टाटा स्काई का कनेक्शन भी लिया था। चाय पीते पीते उन्होंने टीवी को चालू भी कर दिया था। उसी समय सोहन का पडोसी रामलाल भी आ गया। नयी टीवी लिए हो क्या ? उसने घर में घुसते ही पूछा।  हाँ लिया हूँ।  सोहन ने जवाब दिया। कित्ते की पड़ी ? यही कोई चौदह हज़ार की। हूँ बड़ी महँगी है। राम लाल ने मुंह बनाते हुए कहा। सोहन ने कहा मंहंगी तो है लेकिन क्या करें कौन सारा पैसा लेकर ऊपर जाना है। सोहन ने राम लाल को भी चाय पिलायी। चाय पीने के बाद राम लाल चला गया। सोहन अपने परिवार के साथ बैठ कर टीवी का आनंद लेने लगा।

इंसान अपने दुःख से उतना दुखी नहीं होता जितना दूसरे के सुख को देख कर

सोहन लकड़ी का काम किया करता था। खूब मेहनती था। अच्छा कारीगर था अतः उसके पास काम भी खूब आते थे।रात में अकसर दस बारह बजे तक वह काम किया करता था। इसी मेहनत का …