Skip to main content

Harms Caused By Long Hours Uses Of Computer

कम्प्यूटर और हमारा स्वास्थ्य  

यदि आप कंप्यूटर के सामने 4 से 12 घंटे प्रतिदिन बैठते है तो यह जानकारी आपके लिए ही है। दोस्तों हम कंप्यूटर युग या यूँ कहें इंटरनेट युग में जी रहे हैं। शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो कम्प्यूटर या इंटरनेट के  प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से संपर्क में न आया हो। सारा का सारा काम कंप्यूटर से ही सम्पादित हो रहे हैं। पेन,डायरी ,पेपर ,घडी ,कैमरा ,म्यूजिक ,सिनेमा और न जाने क्या क्या , सब के सब कंप्यूटर और मोबाइल के आगे आत्मसमर्पण कर चुकेहैं। आने वाले दिनों में हो सकता है वो म्यूजियम की चीज़ न बन जाये।दोस्तों आज के इस कंप्यूटर युग में कंप्यूटर करोड़ो लोगों की जीविका का साधन भी बना हुआ है। सारे जॉब्स कंप्यूटर से होने की वजह से लोग घंटो कंप्यूटर के सामने बैठे रहते है. या दूसरे शब्दों में कंप्यूटर के सामने दस दस बारह बारह घंटे बैठना उनकी मज़बूरी बन चूका है। अब यही चीज़ रोज़ रोज़ , महीनो महीनो ,सालो सालो तक होती रहे तो  यह लोगों के स्वस्थ्य  पर प्रभाव तो डालेगी ही।आईये देखते है कंप्यूटर के सामने लगातार बैठने के क्या क्या प्रभाव हो सकते हैं :


कंप्यूटर या मोबाइल पर लगातार काम करने से मुख्यतः तीन तरह की
समस्याएं आती है


  • आँख या दृष्टि की समस्या (Vision Problems)
  • शारीरिक समस्याएं (Physical Issues )
  • रेडिएशन की समस्या (Radiation Problem )

Vision Problems :

Image result for image of dry eyes without copyright

कंप्यूटर पर लगातार कई कई घंटो तक काम करने  से computer vision syndrome (CVS)नामक आँखों की प्रॉब्लम आती है।कंप्यूटर स्क्रीन पर बिना पलक झपकाए लगातार देखना , स्क्रीन का कॉट्रास्ट और resolution ज्यादा होना , कंप्यूटर से आँखों की सही दूरी नहीं होना  कई कारण हो सकते है। इसमें आँखों का सुखना यानि dry होना , आँखों की थकान , जलन , सरदर्द  आँखों में तनाव , blur या धुँधली दृष्टि होना कई लक्षण हो सकते हैं। यदि सही समय पर इसका उपाय न किया जाये तो रेटिना के क्षतिग्रस्त होने के भी चांस रहते हैं। अतः जितना जल्दी हो सके इसकी रोकथाम की जानी चाहिए। इनमे से कोई भी लक्षण हो तो अविलम्ब किसी अच्छे eye specialist से मिलना चाहिए। इसके साथ ही नियमित रूप से आँखों को ठन्डे पानी का छींटा देना चाहिए। काम करते समय कंप्यूटर से अपने आँखो की उचित दुरी बनाये रखना चाहिए जिससे की आँखों पर जोर न पड़े। साथ ही ऐसी आदत बनानी चाहिए की हर थोड़ी थोड़ी देर पर पलक झपके। इससे आँखे ड्राई नहीं हो पाती। 


Physical Issues:

Image result for carpal tunnel syndromeImage result for carpal tunnel syndrome


कम्प्यूटर के सामने लगातार एक ही मुद्रा में  कई कई घंटे बैठने से आँखों के अलावा कई शारीरिक विसंगतियां भी आने लगती हैं। इसमें मोटापा ,पेट का निकलना , शरीर और खासकर उंगलियों में अकड़न ,कलाई और गर्दन का अकड़ना , तथा इनमे दर्द होना आदि हो सकता है। कई बार Carpel Tunnel Syndrome के भी होने की संभावनाएं हो जाती है जिसमे उंगलियों में जलन , सुन्नपन ,झनझनाहट ,दर्द और अकड़न हो सकती है। इस तरह के सिम्पटम्स दिखने पर जरा भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। जरुरत हो तो किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। साथ ही नियमित रूप से व्यायाम ,योग , टहलना आदि करना चाहिए। यह भी ध्यान देना चाहिए कि लगातार एक ही मुद्रा में न बैठे। बीच बीच में पोजीशन चेंज करना , थोड़ा टहल लेना , खड़े होना सब करते रहना चाहिए। उँगलिओं तथा हाथो की कसरत जरुरी है साथ ही ऐसी स्थिति से बचने के लिए भरपूर पौष्टिक भोजन ,पानी और खूब टहलना जरुरी होता है। 


Radiation Problem

Image result for crt radiationImage result for crt radiation danger


कई कंप्यूटर के स्क्रीन खासकर कैथोड रे ट्यूब  एक्स रे जैसी विकरण देती है। ये विकरण कई तरह से हमारे स्यास्थ्य को प्रभावित करता है। इससे नींद न आना , कैंसर , गर्भपात ,ट्यूमर , जन्म सम्बन्धी विकृतियां आदि आ सकती है। इससे बचने के लिए अच्छे और उच्च गुणवत्ता वाले सीआरटी मॉनिटर जो कम विकिरण उत्पन्न करें उनका प्रयोग करना चाहिए। इसके साथ ही मॉनिटर से उचित दूरी बनाये रखना चाहिए। हो सके तो कंप्यूटर का रेसोलुशन और कंट्रास्ट कम रखना चाहिए। 

अन्य अध्ययन एवं शोध :


पिछले साल 26 मार्च को Archives of Internal Medicine में प्रकाशित सर्वेक्षण के अनुसार 200000 व्यक्तियों के बैठने की मुद्रा और उनकी मृत्य दर में देखा गया की जो लोग प्रतिदिन 11 घंटे एक ही मुद्रा में काम करते थे सामान्य लोगों की अपेक्षा उनकी मृत्य दर 40 प्रतिशत ज्यादा रही। WHO की रिपोर्ट के अनुसार स्तन और colon कैंसर का एक बड़ा कारण लगातार एक ही मुद्रा में बैठ कर काम करना है। ऐसे लोगों में डायबिटीज के 27 प्रतिशत और ह्रदय रोग के 30 प्रतिशत केस मिले।
American Institute For Cancer Research ने 2012 के कांफ्रेंस में बताया की अकेले अमेरिका में 49000 स्तन कैंसर और 43000 कोलन कैंसर के केस में शरीर लम्बे समय तक बैठना भी एक कारण हो सकता है। Journal For Applied Physiology के 2011 के एक रिपोर्ट के अनुसार जब लोग प्रतिदिन 10000 कदम की जगह 5000 कदम या उससे काम चलने लगते हैं तो उनमे डायबिटीज टाइप टू होने की संभावना बढ़ जाती है। Tel Abib University के एक रिसर्च में पाया गया कि मैकेनिकल स्ट्रेचिंग लोड्स से दबने के कारण प्रिडिपॉइट्स कोशिकाएं फैट सेल में परिवर्तित होने लगती है और जो शरीर में मोटापा लाने लगती हैं। कई अध्ययनों में पाया गया है कि ज्यादा देर तक कंप्यूटर के सामने लगातार बैठने से एक समस्या जिसको इ थ्रोम्बोसिस कहते है आती है इसमें खून में थक्का जमने लगता है। US के National Institute For Occupational Safety And Health के एक रिपोर्ट के अनुसार कंप्यूटर पर प्रतिदिन 3 या ज्यादा घंटे काम करने वालों में computer vision syndrome होने की 90 प्रतिशत संभावना होती है। मलेशिया में एक अध्ययन में पाया गया कि 795 छात्रों में जो 18 से 25 वर्ष के बीच के थे उनमे 89.9 प्रतिशत छात्रों में कंप्यूटर विज़न सिंड्रोम पाया गया। 

Comments

Post a Comment

Name :
Comment :

Popular posts from this blog

Dubai: Duniya Ki Sabse Unchi Buildingon Ka Shahar

दुबई का नाम आते ही दिमाग में एक ऐसे शहर का ख्याल आता है जो चकाचौंध से भरपूर हो , जहाँ चौड़ी चौड़ी सड़कें हों जिन पर महँगी महँगी गाड़ियां पूरी स्पीड से दौड़ रही हों, सर से पांव तक सफ़ेद कपड़ों में लिपटे शेख हों और जहाँ अकूत दौलत हो, जहाँ आसमान से बातें करती ऊँची ऊँची अट्टालिकाएं हों  ।
दुबई ने मात्र पांच दशकों में ही तरक्की और विकास की जो मिसाल कायम की है वह अपने आप में किसी आश्चर्य से कम नहीं है।  दुबई ने साबित कर दिया है की बुलंद इरादें और दूर दृष्टि हो तो कुछ भी असंभव नहीं है। आइये जानते हैं दुनिया के इस अदभुत और लाज़वाब शहर के बारे में वो सब जो इसे दुनिया का एक अनोखा स्थान बनाते हैं।




दुबई किस देश में है

दुबई UAE यानि संयुक्त अरब अमीरात के सात राज्यों में से एक राज्य है जिसे अमीरात बोला जाता है। यह भले ही संयुक्त अरब अमीरात का एक हिस्सा है फिर भी यह कई मामलों में उससे काफी अलग है। यहाँ अन्य इस्लामिक देशों की तरह पाबंदियां नहीं हैं। यहाँ आकर आपको बिलकुल ही महसूस नहीं होगा कि आप एक इस्लामिक देश में हैं बल्कि आपको ऐसा लगेगा जैसे आप न्यूयोर्क या मुंबई में हैं। यदि आपको अरबी नहीं आती तो भी आपका …

ICC Cricket World Cup 2019: Schedule (Time Table) And Venue

2019 के आगमन के साथ ही एकदिवसीय क्रिकेट विश्व कप की उलटी गिनती शुरू हो रही है और क्रिकेट प्रेमी बेसब्री से नए विश्व चैंपियन का स्वागत करने  के लिए अपनी आँखे बिछाए बैठे हैं। क्रिकेट का महाकुम्भ इस बार इंग्लैंड और वेल्स की धरती पर 30 मई 2019 से 14 जुलाई 2019 तक खेला जायेगा। डिफेंडिंग चैंपियन ऑस्ट्रेलिया पर जंहा अपनी बादशाहत को कायम रखने का दबाव होगा वहीँ मेज़बान इंग्लैंड को अपने घरेलु दर्शकों के बीच पहली बार इस कप को पाने  का दबाव होगा। यह विश्व कप का बारहवां संस्करण होगा। इसमें सभी दस टीमें भाग लेंगी। सभी टीमें राउंड रोबिन में एक दूसरे से भिड़ेंगी और अंक तालिका में सर्वोच्च स्थान पाने वाली चार टीमों में पहले और चौथे और दूसरे और तीसरे स्थान पर आने वाली टीमों में बीच सेमी फाइनल मैच होंगे। इन दोनों टीमों के विजेताओं के मध्य फाइनल मैच 14 जुलाई 2019 को खेला जायेगा।


भारतीय समयानुसार ICC क्रिकेट विश्व कप 2019 का शिड्यूल (टाइम टेबल) और वेन्यू

पहले राउंड में कुल 45 मैच खेले जायेंगे

Date, Time (IST) Between Venue

ICC World Cup: All Why, How, When and Whats

बहुप्रतीक्षित एकदिवसीय मैचों का ICC क्रिकेट वर्ल्ड कप का बारहवाँ संस्करण 2019 में इंग्लैंड और वेल्स में होने जा रहा है। इसमें जहाँ वर्तमान चैंपियन ऑस्ट्रेलिया अपने ख़िताब को बचाने उतरेगी वहीँ इंग्लैंड और न्यूजीलैंड तथा कई अन्य देशों के सामने इस विश्व कप को पहली बार अपने देश लेजाने का दबाव भी होगा। प्रतियोगिता रोबिन राउंड मुकाबले के आधार पर होगी जिसमे ऊपर की चार टीमों को सेमी फाइनल खेलने का मौका मिलेगा। सेमी फाइनल विजेताओं के बीच फाइनल मुकाबला होगा और विजेता टीम विश्व कप की  हक़दार होगी।
क्रिकेट का हर टूर्नामेंट बेहद ही रोमांचक होता है फिर तो यह विश्व कप का मुकाबला है। दर्शक जूनून की हद तक जाकर मैचों को देखते हैं और बड़ी ही बेसब्री से हर मुकाबले का परिणाम जानने की प्रतीक्षा करते हैं। दर्शकों में टूर्नामेंट के रिकार्ड्स के साथ साथ हर छोटी बड़ी बातों को जानने की उत्सुकता रहती है। क्रिकेट प्रेमियों की इसी जरुरत को पूरा करने के लिए प्रस्तुत है विश्व कप सम्बन्धी कुछ रोचक जानकारियां :



ICC वर्ल्ड कप 2019  में कितनी टीमें भाग ले रहीं हैं?

ICC वर्ल्ड कप 2019 में कुल दस टीमें भाग ले रहीं हैं  इंग्लै…