Skip to main content

Harms Caused By Long Hours Uses Of Computer

कम्प्यूटर और हमारा स्वास्थ्य  

यदि आप कंप्यूटर के सामने 4 से 12 घंटे प्रतिदिन बैठते है तो यह जानकारी आपके लिए ही है। दोस्तों हम कंप्यूटर युग या यूँ कहें इंटरनेट युग में जी रहे हैं। शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो कम्प्यूटर या इंटरनेट के  प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से संपर्क में न आया हो। सारा का सारा काम कंप्यूटर से ही सम्पादित हो रहे हैं। पेन,डायरी ,पेपर ,घडी ,कैमरा ,म्यूजिक ,सिनेमा और न जाने क्या क्या , सब के सब कंप्यूटर और मोबाइल के आगे आत्मसमर्पण कर चुकेहैं। आने वाले दिनों में हो सकता है वो म्यूजियम की चीज़ न बन जाये।दोस्तों आज के इस कंप्यूटर युग में कंप्यूटर करोड़ो लोगों की जीविका का साधन भी बना हुआ है। सारे जॉब्स कंप्यूटर से होने की वजह से लोग घंटो कंप्यूटर के सामने बैठे रहते है. या दूसरे शब्दों में कंप्यूटर के सामने दस दस बारह बारह घंटे बैठना उनकी मज़बूरी बन चूका है। अब यही चीज़ रोज़ रोज़ , महीनो महीनो ,सालो सालो तक होती रहे तो  यह लोगों के स्वस्थ्य  पर प्रभाव तो डालेगी ही।आईये देखते है कंप्यूटर के सामने लगातार बैठने के क्या क्या प्रभाव हो सकते हैं :


कंप्यूटर या मोबाइल पर लगातार काम करने से मुख्यतः तीन तरह की
समस्याएं आती है


  • आँख या दृष्टि की समस्या (Vision Problems)
  • शारीरिक समस्याएं (Physical Issues )
  • रेडिएशन की समस्या (Radiation Problem )

Vision Problems :

Image result for image of dry eyes without copyright

कंप्यूटर पर लगातार कई कई घंटो तक काम करने  से computer vision syndrome (CVS)नामक आँखों की प्रॉब्लम आती है।कंप्यूटर स्क्रीन पर बिना पलक झपकाए लगातार देखना , स्क्रीन का कॉट्रास्ट और resolution ज्यादा होना , कंप्यूटर से आँखों की सही दूरी नहीं होना  कई कारण हो सकते है। इसमें आँखों का सुखना यानि dry होना , आँखों की थकान , जलन , सरदर्द  आँखों में तनाव , blur या धुँधली दृष्टि होना कई लक्षण हो सकते हैं। यदि सही समय पर इसका उपाय न किया जाये तो रेटिना के क्षतिग्रस्त होने के भी चांस रहते हैं। अतः जितना जल्दी हो सके इसकी रोकथाम की जानी चाहिए। इनमे से कोई भी लक्षण हो तो अविलम्ब किसी अच्छे eye specialist से मिलना चाहिए। इसके साथ ही नियमित रूप से आँखों को ठन्डे पानी का छींटा देना चाहिए। काम करते समय कंप्यूटर से अपने आँखो की उचित दुरी बनाये रखना चाहिए जिससे की आँखों पर जोर न पड़े। साथ ही ऐसी आदत बनानी चाहिए की हर थोड़ी थोड़ी देर पर पलक झपके। इससे आँखे ड्राई नहीं हो पाती। 


Physical Issues:

Image result for carpal tunnel syndromeImage result for carpal tunnel syndrome


कम्प्यूटर के सामने लगातार एक ही मुद्रा में  कई कई घंटे बैठने से आँखों के अलावा कई शारीरिक विसंगतियां भी आने लगती हैं। इसमें मोटापा ,पेट का निकलना , शरीर और खासकर उंगलियों में अकड़न ,कलाई और गर्दन का अकड़ना , तथा इनमे दर्द होना आदि हो सकता है। कई बार Carpel Tunnel Syndrome के भी होने की संभावनाएं हो जाती है जिसमे उंगलियों में जलन , सुन्नपन ,झनझनाहट ,दर्द और अकड़न हो सकती है। इस तरह के सिम्पटम्स दिखने पर जरा भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए। जरुरत हो तो किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। साथ ही नियमित रूप से व्यायाम ,योग , टहलना आदि करना चाहिए। यह भी ध्यान देना चाहिए कि लगातार एक ही मुद्रा में न बैठे। बीच बीच में पोजीशन चेंज करना , थोड़ा टहल लेना , खड़े होना सब करते रहना चाहिए। उँगलिओं तथा हाथो की कसरत जरुरी है साथ ही ऐसी स्थिति से बचने के लिए भरपूर पौष्टिक भोजन ,पानी और खूब टहलना जरुरी होता है। 


Radiation Problem

Image result for crt radiationImage result for crt radiation danger


कई कंप्यूटर के स्क्रीन खासकर कैथोड रे ट्यूब  एक्स रे जैसी विकरण देती है। ये विकरण कई तरह से हमारे स्यास्थ्य को प्रभावित करता है। इससे नींद न आना , कैंसर , गर्भपात ,ट्यूमर , जन्म सम्बन्धी विकृतियां आदि आ सकती है। इससे बचने के लिए अच्छे और उच्च गुणवत्ता वाले सीआरटी मॉनिटर जो कम विकिरण उत्पन्न करें उनका प्रयोग करना चाहिए। इसके साथ ही मॉनिटर से उचित दूरी बनाये रखना चाहिए। हो सके तो कंप्यूटर का रेसोलुशन और कंट्रास्ट कम रखना चाहिए। 

अन्य अध्ययन एवं शोध :


पिछले साल 26 मार्च को Archives of Internal Medicine में प्रकाशित सर्वेक्षण के अनुसार 200000 व्यक्तियों के बैठने की मुद्रा और उनकी मृत्य दर में देखा गया की जो लोग प्रतिदिन 11 घंटे एक ही मुद्रा में काम करते थे सामान्य लोगों की अपेक्षा उनकी मृत्य दर 40 प्रतिशत ज्यादा रही। WHO की रिपोर्ट के अनुसार स्तन और colon कैंसर का एक बड़ा कारण लगातार एक ही मुद्रा में बैठ कर काम करना है। ऐसे लोगों में डायबिटीज के 27 प्रतिशत और ह्रदय रोग के 30 प्रतिशत केस मिले।
American Institute For Cancer Research ने 2012 के कांफ्रेंस में बताया की अकेले अमेरिका में 49000 स्तन कैंसर और 43000 कोलन कैंसर के केस में शरीर लम्बे समय तक बैठना भी एक कारण हो सकता है। Journal For Applied Physiology के 2011 के एक रिपोर्ट के अनुसार जब लोग प्रतिदिन 10000 कदम की जगह 5000 कदम या उससे काम चलने लगते हैं तो उनमे डायबिटीज टाइप टू होने की संभावना बढ़ जाती है। Tel Abib University के एक रिसर्च में पाया गया कि मैकेनिकल स्ट्रेचिंग लोड्स से दबने के कारण प्रिडिपॉइट्स कोशिकाएं फैट सेल में परिवर्तित होने लगती है और जो शरीर में मोटापा लाने लगती हैं। कई अध्ययनों में पाया गया है कि ज्यादा देर तक कंप्यूटर के सामने लगातार बैठने से एक समस्या जिसको इ थ्रोम्बोसिस कहते है आती है इसमें खून में थक्का जमने लगता है। US के National Institute For Occupational Safety And Health के एक रिपोर्ट के अनुसार कंप्यूटर पर प्रतिदिन 3 या ज्यादा घंटे काम करने वालों में computer vision syndrome होने की 90 प्रतिशत संभावना होती है। मलेशिया में एक अध्ययन में पाया गया कि 795 छात्रों में जो 18 से 25 वर्ष के बीच के थे उनमे 89.9 प्रतिशत छात्रों में कंप्यूटर विज़न सिंड्रोम पाया गया। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

Mumbai: Ek Laghu Bharat

मुंबई जिसे भारत का पश्चिम द्वार, भारत की आर्थिक राजधानी, सात टापुओं का नगर, सितारों की नगरी, सपनो का शहर, एक ऐसा शहर जहाँ रात नहीं होती आदि कई नामों से पुकारा जाता है, न केवल भारत का सर्वाधिक जनसँख्या वाला शहर है बल्कि यह दुनिया के सर्वाधिक जनसँख्या वाले शहरों में दूसरा स्थान रखता है और अनुमान है 2020 तक यह विश्व का सबसे अधिक जनसँख्या वाला शहर बन जाएगा। यह नगर वास्तव में भारत के समृद्धत्तम नगरों में से एक है। भारत के सबसे अमीर लोगों का निवास स्थान यहीं है और भारत के जीडीपी का पांच प्रतिशत हिस्सा यहीं से आता है। भारत के प्रति व्यक्ति की आय के मुकाबले मुंबई के प्रति व्यक्ति की आय तिगुनी है। यह भारत के सबसे अधिक गगनचुम्बी इमारतों वाला शहर है।



मुंबई की स्थापना और इतिहास

मुंबई का इतिहास बहुत पुराना जान पड़ता है।  कांदिवली के निकट पाषाण काल के मिले अवशेष यहाँ उस युग में भी मानव बस्ती होने की गवाही देते हैं। ई पूर्व 250 में जब इसेहैपटनेसिआ कहा जाता था तब के भी यहाँ  लिखित प्रमाण मिले हैं। ईशा पूर्व तीसरी शताब्दी में यहाँ सम्राट अशोक का शासन रहा फिर सातवाहन से लेकर इंडो साइथियन वेस्टर्न स्ट्रै…

Uric Acid: Lakshan Aur Niyantran Ke Upay Hindi Me

यूरिक एसिड और गाउट /अर्थराइटिस 

कई बार ऐसा होता है कि कुछ लोगों को चलने फिरने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है और उनके शरीर के जोड़ जोड़ में दर्द होता है। गांठे सूज जाती हैं और वह करीब करीब बेड पर हो जाता है। यह बीमारी काफी तकलीफदायक है क्योंकि यह सीधे मनुष्य के खड़े होने , चलने फिरने पर प्रभाव डालता है और इस वजह से वह लाचार और काफी हद तक दूसरों पर निर्भर हो जाता है। 
आइए जानते हैं ऐसा किन वजहों से होता है और कैसे इसका निदान करते हैं : मनुष्य के शरीर में विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात यूरिक एसिड का निर्माण होता है। जब किसी कारणवश शरीर में इसकी मात्रा बढ़ जाती है तब यह शरीर पर अपना नुकसान दिखाना शुरू करती है।  यूरिक एसिड या गठिआ क्या है What is Uric Acid
यूरिक एसिड कार्बन,हाइड्रोजन,नाइट्रोंजन तथा ऑक्सीजन परमाणुओं का एक हेट्रोसिक्लिक योगिक होता है जो शरीर के अंदर विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात् प्यूरिन के रूप में उत्पन्न होता है।इसी प्यूरिन के टूटने से यूरिक एसिड का निर्माण होता है।  जब हमारे शरीर में इसकी मात्रा सामान्य से अधिक हो जाती है तो इसे Hype