Skip to main content

Posts

Showing posts from March, 2018

Uric Acid: Lakshan Aur Niyantran Ke Upay Hindi Me

यूरिक एसिड और गाउट /अर्थराइटिस  

कई बार ऐसा होता है कि कुछ लोगों को चलने फिरने में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है और उनके शरीर के जोड़ जोड़ में दर्द होता है। गांठे सूज जाती हैं और वह करीब करीब बेड पर हो जाता है। यह बीमारी काफी तकलीफदायक है क्योंकि यह सीधे मनुष्य के खड़े होने , चलने फिरने पर प्रभाव डालता है और इस वजह से वह लाचार और काफी हद तक दूसरों पर निर्भर हो जाता है। 
आइए जानते हैं ऐसा किन वजहों से होता है और कैसे इसका निदान करते हैं : मनुष्य के शरीर में विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात यूरिक एसिड का निर्माण होता है। जब किसी कारणवश शरीर में इसकी मात्रा बढ़ जाती है तब यह शरीर पर अपना नुकसान दिखाना शुरू करती है।  यूरिक एसिड या गठिआ क्या है What is Uric Acid
यूरिक एसिड कार्बन,हाइड्रोजन,नाइट्रोंजन तथा ऑक्सीजन परमाणुओं का एक हेट्रोसिक्लिक योगिक होता है जो शरीर के अंदर विभिन्न उपापचयी क्रियाओं के पश्चात् प्यूरिन के रूप में उत्पन्न होता है।इसी प्यूरिन के टूटने से यूरिक एसिड का निर्माण होता है।  जब हमारे शरीर में इसकी मात्रा सामान्य से अधिक हो जाती है तो इसे Hyperuricemia या सामान्य बोलचाल में …

Saans, The Life: Facebook,Cambridge Analytica and Data Leak

Saans, The Life: Facebook,Cambridge Analytica and Data Leak: Facebook और आपका डाटा  आप जब भी facebook चला रहे होते है तब आपके होम पेज पर आप देखते है वही सारे विज्ञापन आने लगते हैं या वही सारे पोस्ट...

Facebook,Cambridge Analytica and Data Leak

Facebook और आपका डाटा 
आप जब भी facebook चला रहे होते है तब आपके होम पेज पर आप देखते है वही सारे विज्ञापन आने लगते हैं या वही सारे पोस्ट साइड में दीखने लगते हैं जो आपके पसंद के हों। आपकी रूचि से सम्बंधित पेज ,ग्रुप या अन्य विज्ञापन सब के सब आने शुरू हो जाते हैं। अच्छा तो लगता है पर आखिर facebook को हमारी पसंद नापसंद , हमारे शौक का पता कैसे चलता है। जी हाँ सोचने वाली बात है एक प्रोग्रामिंग साइट हमारे बारे में इतना कुछ कैसे जानती है ? और न केवल हमारे बारे में बल्कि हमारे मित्र ,रिश्तेदार  और सहकर्मियों के बारे में पूरी की पूरी जानकारी का पता है उसे। 

दोस्तों जब भी हम facebook या कोई भी सोशल साइट चलाते  हैं हम जाने अनजाने अपने ,अपने रिश्तेदारों ,अपने मित्रों के बारे में बहुत कुछ उस साइट को बता देते हैं। आपका नाम ,पता ,उम्र ,मेल आईडी ,मोबाइल नंबर ,सेक्स  यानि बहुत कुछ। ये सोशल साइट्स भी चुपके चुपके आपकी हर गतिबिधि , आपकी  पस

Murkh Shishya

मुर्ख शिष्यों की कहानी एक गुरु जी थें।  उनके दो शिष्य थे। गुरूजी दोनों शिष्यों में सामान रूप से ज्ञान बाटते थे। दोनों शिष्य भी खूब मन लगा कर ज्ञान अर्जन करते थे। इसके साथ ही दोनों शिष्य गुरूजी की खूब सेवा किया करते थे। गुरूजी को बहुत आराम था। लेकिन सब कुछ अच्छा होने के बावजुद एक कमी थी।  दोनों शिष्यों में आपस में खूब ईर्ष्या की भावना थी।  दोनों अपने अपने ज्ञान को आगे बढाकर एक दूसरे को पीछे न करके एक दूसरे की टांग खींच कर आगे बढ़ने का प्रयास करते रहते थे। हालाँकि गुरूजी इन बातों से अनभिज्ञ थे। समय बीतता गया। एक दिन एक शिष्य को किसी काम से अपने घर जाना पड़ा। अब सारा काम ,सारी सेवा दूसरे वाले शिष्य को करनी पड़ती थी। उसको अपने अलावा पहले वाले शिष्य के हिस्से का भी काम करना पड़ता था। वह मन ही मन बहुत खिन्न रहने लगा। पहले वाले शिष्य के जिम्मे का काम वह बेमन से करता था। अतः सारा काम अस्त व्यस्त होने लगा। आश्रम की सारी व्यवस्था गड़बड़ा गयी। गुरूजी कई बार उसे डाट भी देते थे। इस पर वह और खिन्न रहने लगा और अपने साथी के प्रति और ईर्ष्या की भावना से भर गया। अब वह और भी लापरवाह हो गया और अपने साथी के जिम…

Harms Caused By Long Hours Uses Of Computer

कम्प्यूटर और हमारा स्वास्थ्य यदि आप कंप्यूटर के सामने 4 से 12 घंटे प्रतिदिन बैठते है तो यह जानकारी आपके लिए ही है। दोस्तों हम कंप्यूटर युग या यूँ कहें इंटरनेट युग में जी रहे हैं। शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो कम्प्यूटर या इंटरनेट के  प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से संपर्क में न आया हो। सारा का सारा काम कंप्यूटर से ही सम्पादित हो रहे हैं। पेन,डायरी ,पेपर ,घडी ,कैमरा ,म्यूजिक ,सिनेमा और न जाने क्या क्या , सब के सब कंप्यूटर और मोबाइल के आगे आत्मसमर्पण कर चुकेहैं। आने वाले दिनों में हो सकता है वो म्यूजियम की चीज़ न बन जाये।दोस्तों आज के इस कंप्यूटर युग में कंप्यूटर करोड़ो लोगों की जीविका का साधन भी बना हुआ है। सारे जॉब्स कंप्यूटर से होने की वजह से लोग घंटो कंप्यूटर के सामने बैठे रहते है. या दूसरे शब्दों में कंप्यूटर के सामने दस दस बारह बारह घंटे बैठना उनकी मज़बूरी बन चूका है। अब यही चीज़ रोज़ रोज़ , महीनो महीनो ,सालो सालो तक होती रहे तो  यह लोगों के स्वस्थ्य  पर प्रभाव तो डालेगी ही।आईये देखते है कंप्यूटर के सामने लगातार बैठने के क्या क्या प्रभाव हो सकते हैं :
कंप्यूटर या मोबाइल पर लगातार काम करने स…