Skip to main content

Shri Devi, The female Super Star of Bollywood


आज बॉलीवुड सहित सारा फिल्म जगत सदमे में है। भारतीय सिने प्रेमी हतप्रभ है। जी हाँ आपने सही अनुमान लगाया "चांदनी " चली गयी। चांदनी यानि हरदिल अज़ीज श्री देवी आज हमारे बीच नहीं है। कल देर रात दुबई में उनका दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। 

श्री देवी बॉलीवुड की सबसे लोकप्रिय अभिनेत्रियों में से एक रही हैं। उन्हें कभी सुपरस्टार तो कभी लेडी अमिताभ कहा गया। 1990 के दशक के सबसे लोकप्रिय और सबसे ज्यादा पारिश्रमिक पाने वाली हिरोइनो में उनका ही नाम आता है।Image result for sri devi last photo
श्री देवी अपना फ़िल्मी सफर बतौर बाल कलाकार 4 वर्ष की अवस्था में फिल्म Thunaivan से किया और इसके बाद वो तमिल,तेलगु ,कन्नड़ और मलयालम फिल्मो में अपना ये सफर जारी रखा। हिंदी फिल्मों में उन्होंने 1975 में फिल्म Julie में बाल कलाकार के रूप में अपना डेब्यू किया। 1976 उन्होंने अपना पहला व्यस्क रोल तमिल फिल्म Moonduru Modichu में किया। इसके बाद उनके लिए फिल्मो की लाइन लग गयी।  16 Vyathinile ,Siggapu Rojakkal,Varumayin Niram Sivappu , Meendum Kokila आदि कई तमिल ,तेलगु ,मलयालम और कन्नड़ फिल्मो में उन्होंने अपनी छाप छोड़ी।
हिंदी फिल्मों में सबसे पहले बतौर हीरोइन उन्होंने 1978 में फिल्म सोलवां सावन में काम किया और 1983 में फिल्म Himmatwala से स्टारडम हासिल किया। इसके बाद Mawali , Tohfa , Maqsad ,Masterji ,Nazrana ,Mr India से अपने सफलता के सफर को जारी रखा। जहाँ इन फिल्मों से उन्होंने कमर्शियल सफलता हासिल की वहीँ Sadama, Nagina ,Chalbaz , Chandani , Lamhe आदि फिल्मो से फिल्म समीक्षकों को भी अपने अभिनय का लोहा मनवाया। अपनी शादी के बाद उन्होंने फिल्मो को छोड़ दिया था किन्तु फिर 2012 में उन्होंने फिल्म English Winglish से वापसी की।Image result for sri devi last photo
श्रीदेवी ने पांच बार Film Fare Award हासिल किया और 10 बार उनका Film Fare Award के लिए नॉमिनेशन किया गया। भारत सरकार ने 2013 में उन्हें पदमश्री पुरस्कार प्रदान किया। 2013 में ही उन्हें भारतीय सिनेमा के 100 वर्ष पुरे होने के उपलक्ष्य कराये गए पोल में 100 वर्षों में भारत की महान हिरोइनो में स्थान प्राप्त किया। इसके अलावा भी उन्होंने कई अवार्ड्स  पुरस्कार प्राप्त किये हैं।
श्री देवी का जन्म 13 अगस्त 1963 में शिवकाशी तमिलनाडु में हुआ था।  उनका पूरा नाम श्री अम्मा यनगर अयप्पन था।  उनके पिता अयप्पन तमिल और उनकी माँ राजेश्वरी तेलगु थीं। उनके पिता एक वकील थे। उनकी एक बहन और तीन सौतेले भाई हैं।  श्री देवी ने मिथुन चक्रवर्ती से 1984 में गुप्त रूप से शादी की थी जिसका खुलासा मिथुन चक्रवर्ती ने फैंस मैगजीन में बाद में किया। 1996 में उन्होंने फिर  फिल्म निर्माता बोनी कपूर से शादी की जिनसे उनको दो बेटियां जहान्वी और ख़ुशी हुयी।
 श्री देवी ने बाद में अपना फिल्म प्रोडक्शन भी शुरू किया जिसके द्वारा जुदाई फिल्म का निर्माण किया गया। श्री देवी की आखरी फिल्म Mom है इसके आलावा शाहरुख खान की zero में उनकी गेस्ट अपीयरेंस है।
चुलबुली आँखों वाली ,नटखट सी शरारती चाहे वह चांदनी हो या Mr India की हवाहवाई गर्ल हो सच में वो अपने चाहने वालों को रुला गयी। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…

कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने से कैसे छुटकारा पाएं , कुछ घरेलु उपचार

कील मुंहासे या पिम्पल्स न केवल चेहरे की खूबसूरती को कम करते हैं बल्कि कई बार ये काफी तकलीफदेय भी हो जाते हैं। कील मुंहासो की ज्यादातर समस्या किशोर उम्र के लड़के लड़कियों में होती है जब वे कई तरह के शारीरिक परिवर्तन और विकास के दौर में होते हैं। 




कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने क्या हैं


अकसर किशोरावस्था में लड़के और लड़कियों के चेहरों पर सफ़ेद, काले या लाल दाने या दाग दिखाई पड़ते हैं। ये दाने पुरे चेहरे पर होते हैं किन्तु ज्यादातर इसका प्रभाव दोनों गालों पर दीखता है। इनकी वजह से चेहरा बदसूरत और भद्दा दीखता है। इन दानों को पिम्पल्स, मुंहासे या एक्ने कहते हैं। 




पिम्पल्स किस उम्र में होता है 

पिम्पल्स या मुंहासे प्रायः 14 से 30 वर्ष के बीच के युवाओं को निकलते हैं। किन्तु कई बार ये बड़ी उम्र के लोगों में भी देखा जा सकता है। ये मुंहासे कई बार काफी तकलीफदेय होते हैं और कई बार तो चेहरे पर इनकी वजह से दाग हो जाते हैं। चेहरा ख़राब होने से किशोर किसी के सामने जाने से शरमाते हैं तथा हीन भावना से ग्रस्त हो जाते हैं। 
कील मुंहासे, पिम्पल्स या एक्ने के प्रकार 

ये पिम्पल्स कई प्रकार के हो सकते हैं। कई बार ये छोटे …