Skip to main content

Kamal Hassan and his new party Makkal Needhi Maiam


Kamal Hassan ने जो बारीकी अपने अभिनय,निर्देशन में दिखाई है उम्मीद की जाती है कि  वही बारीकी वे अपने राजनितिक जीवन में भी दिखाएँगे। अभी तक के उनके सारे कदम इसी बात को साबित करते हैं कि वे एक कुशल राजनेता की तरह एक-एक कदम चुन चुन कर उठाया है।Image result for kamal hasan


South India खास कर Tamilnadu  और Andra Pradesh की राजनीति और फिल्मों  में हमेशा से बड़ा ही गहरा सम्बन्ध रहा है। प्राय : फ़िल्मी सितारे अपनी दूसरी इनिंग राजनीति  में ही खेलते रहे हैं। वह चाहे M G  Ramchandran  हों N T Ramarao  हों Jailalitha  हों या फिर जयाप्रदा। जनता भी उन्हें सिर आँखों पर लिए रहती है। अत: Kamal  Hasan का राजनीति  में आना अप्रत्याशित बिलकुल भी नहीं रहा। आज उन्होंने अपनी खुद की पार्टी बना डाली। हालाँकि इसकी तैयारियां वे पिछले कई महीनों से कर रहे थें। Image result for kamal hasan

Kamal Hassan एक मंझे हुए अभिनेता ,पटकथा लेखक, निर्देशक ,गायक और गीतकार रहे हैं। अपनी प्रतिभा का लोहा उन्होंने कई बार मनवाया है। उन्हें तीन बार National Film Award और 19 बार Film Fair Award मिल चुके हैं। उनकी प्रोडक्शन कंपनी Raj Kamal International  ने कई सुपर हिट फ़िल्में बनाई है। Kamal  Hassan  का जन्म परमकुड़ी में 7 नवम्बर 1954 में हुआ था। उन्होंने दो शादियां की हैं।  पहली पत्नी वाणी गणपति है जिससे उनका तलाक 1988 में हो चूका है और दूसरी पत्नी सारिका है।  इनसे भी उनका तलाक 2004 में हो गया था। उनके दो बच्चे हैं Shruti Hassan और Akshara Hassan. उन्हें भारत सरकार  द्वारा पदमश्री (1990 ) और पदम्भूषण(2014 )  दिया गया। इसके अलावा Prix Henri Langlois French  Award 2016 , Chevolier French 2016 में उन्हें मिला।
उन्होंने अपना करियर चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पे 1960 में शुरू किया। फिल्म का नाम Kalathur Kannama था। इस फिल्म में उन्हें प्रेजिडेंट गोल्ड मैडल मिला। 1975 में उन्होंने Apoorv  Raagangal जो K Balachandra द्वारा निर्देशित थी में अपना पहला लीड रोल किया।  इसके लिए उन्हें  National Film Award मिला। फिर Muundram Pirai ,Nayagan , Hey  Ram ,Virumaandi , Vishwaroopam , Dashawtaram  आदि अनेक फिल्मो में अपने अभिनय की अमिट छाप छोड़ी।
Jaylalitha की मृत्यु और Karunanidhi  की अत्यधिक उम्र और अस्वस्थता तथा साथ ही उनके बेटों में कलह, तमिलनाडु में नेतृत्व का अभाव दीख रहा था। जनता दुविधा में थी। साथ ही जनता  AIMDAK  और DMK के भ्रष्टाचारों से ऊब चुकी थी। राष्ट्रीय पार्टियां बीजेपी और कांग्रेस वहां अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रही हैं।   Kamal Hassan ने इस राजनितिक गैप का फायदा उठाया और अपनी पार्टी Makkal Needhi Maiam लोक न्याय पार्टी लांच कर दी। उन्होंने अपनी पार्टी की शुरुवात पूर्व राष्ट्रपति डॉ Abdul Kalam  के घर से की।  शायद वे जनता को सन्देश देना चाहते हैं कि उनकी पार्टी उनके आदर्शों पर चलेगी।  साथ ही उद्घाटन अवसर पर Arvind Kejriwal को बुलाना यह  संकेत  कि वह साफ़ सुथरी , सरल और अलग तरह की  राजनीति करेंगे जिसमे भ्रष्टाचार के लिए जीरो टोलेरेंस हो।
Kamal Hassan के चाहने वालों की कमी नहीं। है उनके फैंस लाखों ,करोडो में। हैं। अब देखना यह है कि वे अपने चाहने वालों की उम्मीदों पर खरा उतरते हैं या नहीं। 

Popular posts from this blog

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

ट्रेनों से सफर के दौरान अकसर हमें पुलिस वाले दिखाई पड़ जाते हैं। कभी ट्रैन के अंदर तो कभी प्लेटफार्म पर , कभी टिकट खिड़की के पास तो कभी माल गोदाम की तरफ। स्टेशनो पर जब भी पुलिस की बात चलती है तो जीआरपी और आरपीएफ का नाम जरूर आता है। पुलिस वालों को भी देखा जाता है तो उनके कंधे पर GRP या RPF लिखा मिलता है। बहुत कन्फ्यूजन होता है और अकसर हमारे दिमाग में यह बात आती है कि इन दोनों में फर्क क्या है। पुलिस तो दोनों हैं। आइए देखते हैं जीआरपी और आरपीएफ में क्या अंतर है ?

RPF aur GRP ka full form kya hota hai 

RPF का फुलफॉर्म होता है Railway Protection Force यानि रेलवे सुरक्षा बल जबकि GRP का फुलफॉर्म होता है Government Rail Police 

RPF Aur GRP Me Kya Antar Hai

RPF यानि रेलवे सुरक्षा बल एक सैन्य बल है जो सीधे ministry of railway के अंतर्गत आता है। इसका मुख्या कार्य रेलवे परिसम्पत्तिओं 
की सुरक्षा करना होता है। इसके अंतर्गत रेलवे परिसर में उपस्थित सारे सामान आते हैं। यह रेल मंत्रालय के प्रति जवाबदेय होता है। यह रेलवे स्टॉक , रेलवे लाइन , यार्ड , मालगोदाम इत्यादि बहुत सारी चीज़ों की सुरक्षा करता है। इन सम्…

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता

ऐसा धन जिसे कोई चुरा नहीं सकता a motivational story
मोटिवेशनल स्टोरी 

"पापा पापा, बाबू ने मेरी ड्राइंग की कॉपी फाड़ दी है " बेटी ने रोते हुए शिकायत किया। "देखिए न, मैंने कितना कुछ बनाया था।" उसने फटे हुए पन्नो को जोड़ते हुए दिखाया। मैंने उसे चुप कराने की कोशिश की तो वह और भी ज्यादा रोने लगी। मैंने कहा अच्छा ठीक है चलो मै तुम्हे दूसरी कॉपी दिला दे रहा हूँ। मै कान्हा को बुलाया और खूब डांटा तो वह भी रोने लगा और बोला "दीदी मुझे कलर वाली पेंसिल नहीं दे रही थी।" अब दोनों रो रहे थे।  मैंने दोनों को समझाया। कान्हा तो चुप हो गया किन्तु इशू रोए जा रही थी। "मैंने इतने अच्छे अच्छे ड्राइंग बनाये थे , सब के सब फट गए।" वास्तव में इशू की रूचि ड्राइंग में कुछ ज्यादा ही थी। जो भी देखती उसे अपने ड्राइंग बुक में बना डालती, कलर करती और संजो कर रख लेती। मै उसको समझाने लगा देखो बेटी फिर से बना लेना, उसने कॉपी फाड़ी है किन्तु तुम्हारे हुनर को कोई नहीं छीन सकता। हुनर या टैलेंट ऐसी चीज़ है जिसे कोई नष्ट नहीं कर सकता। वह मेरे पास आकर बैठ गयी, मै उसके सर पर हाथ फेरने लगा वह अ…

पारस पत्थर : ए मोटिवेशनल स्टोरी

पारस पत्थर : ए मोटिवेशनल स्टोरी 

सोहन आज एक नयी एलईडी टीवी खरीद कर लाया था। टीवी को इनस्टॉल करने वाले मेकैनिक भी साथ आये थे। मैकेनिक कमरे में टीवी को इनस्टॉल कर रहे थे। तभी सोहन की बीबी उनके लिए चाय बना कर ले आयी। दोनों मैकेनिकों ने जल्दी ही अपना काम ख़तम कर दिया। सोहन नयी टीवी के साथ नया टाटा स्काई का कनेक्शन भी लिया था। चाय पीते पीते उन्होंने टीवी को चालू भी कर दिया था। उसी समय सोहन का पडोसी रामलाल भी आ गया। नयी टीवी लिए हो क्या ? उसने घर में घुसते ही पूछा।  हाँ लिया हूँ।  सोहन ने जवाब दिया। कित्ते की पड़ी ? यही कोई चौदह हज़ार की। हूँ बड़ी महँगी है। राम लाल ने मुंह बनाते हुए कहा। सोहन ने कहा मंहंगी तो है लेकिन क्या करें कौन सारा पैसा लेकर ऊपर जाना है। सोहन ने राम लाल को भी चाय पिलायी। चाय पीने के बाद राम लाल चला गया। सोहन अपने परिवार के साथ बैठ कर टीवी का आनंद लेने लगा।

इंसान अपने दुःख से उतना दुखी नहीं होता जितना दूसरे के सुख को देख कर

सोहन लकड़ी का काम किया करता था। खूब मेहनती था। अच्छा कारीगर था अतः उसके पास काम भी खूब आते थे।रात में अकसर दस बारह बजे तक वह काम किया करता था। इसी मेहनत का …